जब राजा ने प्रजा को छोड़कर अपनाया शाही सेल्फ आइसोलेशन...

राजा के शाही सेल्फ आइसोलेशन के चर्चे

कोरोना वायरस दुनिया के हर देश की चिंता का सबब बन गया है। एक ऐसी बीमारी जिसका पता लगाने की प्रक्रिया तक में न जाने और कितने लोग संक्रमित हो चुके होते हैं। आम जनता से लेकर बड़े से बड़े पदाधिकारी भी कोरोना की चपेट में आने से बच नहीं पा रहे हैं। कोरोना वायरस से संक्रमित होने के कारण स्पेन की राजकुमारी की मौत हो गई तो वहीं कोरोना के कहर ने ब्रिटेन के राजजकुमार और रानी को भी नहीं छोड़ा। ब्रिटेन के राजकुमार और रानी दोनों कोरोना से संक्रमित हैं। भारत में जहां कोरोना के संक्रमण से मरीजों की बढ़ती संख्या ने सरकार की नींद उड़ा रखी है तो वहीं अमेरिका में 100 साल के इतिहास में इतनी मौतें नहीं हुईं जितनी कोरोना के कारण हो चुकी हैं।

दुनिया के सभी देश नागरिकों की सुरक्षा को लेकर चिंतित

कोरोना जिस कदर दुनिया को अपना निवाला बना रहा है उससे सभी देश के प्रतिनिधियों के माथे पर चिंता की लकीरें गहरी होती जा रही हैं। देश के हर नागरिक के अधिकारों, उसकी सुरक्षा की जिम्मेदारी निभाने वाले शख्स की चिंता का शाययद अंदाजा भी नहीं लगाया जा सकता है। बड़े से बड़े विकसित देशों ने कोरोना के आगे घुटने टेक दिए हैं लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि एक ऐसा भी देश है जहां पर राजा शाही जीवन जीने में व्यस्त है और प्रजा भगवान के भरोसे जी रही है।

कोरोना को मात देने के लिए हॉन्ग-कॉन्ग से लेकर सिंगापुर कर…

एक देश ऐसा भी….

जहां सारे देश कोरोना वायरस से अपने देश को बचाने के लिए चिंतित हैं तो वहीं एक देश ऐसा है जहां राजा अपनी प्रजा को भगवान के भरोसे छोड़कर दूर देश जाकर शाही अंदाज में आइसोलेशन के मज़े ले रहे हैं। जी हां हम बात कर रहे हैं थाइलैंड की। थाइलैंड के राजा महा वजीरालोंगकोरन जिन्हे रामा ‘दशम’ के नाम से भी जाना जाता है। ये वो राजा हैं जिनका शाही अंदाज आइसोलेशन में भी चरम पर है। दरअसल जब दुनिया के बाकी देश अपने नागरिकों को कोरोना वायरस से बचाने के लिए हर संभव प्रयास कर रही थी, तब थाईलैंड के राजा महा वजीरालोंगकोरन सेल्फ आइसोलेशन के लिए बवेरिया के रॉयल होटल सोनेनबिचल पहुंच गए। यहां उन्होंने खुद को आइसोलेट करने के लिए पूरा होटल ही बुक कर डाला।

थाईलैंड के राजा का शाही सेल्फ आइसोलेशन

थाईलैंड के राजा महा वजीरालोंगकोरन के शाही आइसोलेशन की बड़ी चर्चा हो रही है। क्योंकि उनका ये सेल्फ आइसोलेशन बड़ा ही अलग किस्म का था। सेल्फ आइसोलेशन के लिए राजा महा वजीरालोंगकोरन अपनी 20 उप पत्नियों के साथ होटल में शाही सेल्फ आइसोलेशन का लुत्फ उठा रहे हैं तो वहीं प्रजा अपने राजा के इस कारनामें पर शर्मिंदा है।

कोरोना के डर से जर्मनी भागे थाईलैंड के राजा, जनता ने…

प्रजा की प्रतिक्रिया हमें राजा की क्या जरूरत

कोरोना महामारी के संक्रमण के दौरान अपनी प्रजा की सुरक्षा की जिम्मेदारी को न निभाकर खुद को देश से दूर ले जाकर सेल्फ आइसोलेट करना थाईलैंड की प्रजा को भी रास नहीं आ रहा है। अपने राजा की गैर जिम्मेदाराना इस हरकत पर प्रजा में नाराजगी देखने को मिल रही है। सोशल मीडिया पर लोग राजा की जमकर आलोचना कर रहे हैं। आप लोगों की नाराजगी का अंदाजा इस बात से भी लगा सकते हैं कि थाईलैंड में राजा की आलोचना करने पर 15 साल की सजा भी हो सकती है बावजूद इसके लोग सोशल मीडिया पर अपना गुस्सा निककाल रहे हैं। थाईंलैंड के राजा के प्रति प्रजा की नाराजगी के कारण सोशल मीडिया पर ‘हमें राजा की क्या जरूरत’ ट्रेंड कर रहा है। ये वाक्य थाईलैंड की प्रजा के दु:ख को बयां करने के लिए काफी हैं।

थाईलैंड में कोरोना का प्रकोप

देश के राजा जब शाही सेल्फ आइसोलेशन के लिए अपनी प्रजा को भगवान के भरोसे छोड़कर गए हैं तो ऐसे में ये बताना भी जरूरी है कि थाईलैंड में कोरोना वायरस के संक्रमण के 1245 मामले सामने आ चुके हैं और ऐसी स्थिति में अपने देश से राजा ने मुंह मोड़ लिया है। जानकारी के मुताबिक राजा महा वजीरालोंगकोरन फरवरी से अपने देश लौटे ही नहीं हैं और जर्मनी में निवास कर रहे हैं।

AB STAR NEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते हैं