कोरोना के ये सबक दुनिया को जिंदगीभर याद रहेंगे

0
17

साल 2020 की शुरूआत में देश में कोरोना वायरस के कोहराम मचा के रख दिया हैं। लेकिन इस संकट की घड़ी दुनियाभर को सबक जरूर सिखाया है जोकि जरूरी था।

पूरी दुनिया कोरोना वायरस का कहर रोकने की कोसिश कर रही है। इस वायरस के कारण दुनियाभर में कई हजारों लोगों की मौत हो चुकी हैं। जबकि लाखों लोग इस वायरस से जूझ रहे हैं। साल 2020 की शुरूआत में देश में कोरोना वायरस के कोहराम मचा के रख दिया हैं। लेकिन इस संकट की घड़ी दुनियाभर को सबक जरूर सिखाया है जोकि जरूरी था। इस सबक को दुनिया कभी नहीं भूल पाएगी। जो कि भविष्य में हमारे लिए नजीर साबित होंगे।

कोरोना वायरस का कहर जारी, अमेरिका में एक दिन में 2000 मौतें

एक छोटे से न दिखने वाले अति सूक्ष्म विषाणु(कोरोना वायरस) ने पूरी दुनिया में अपना कोहराम मचा दिया है। हालांकि समय-समय पर प्रकृति और वैज्ञानिक हमें चेतावनी जारी कर रहे थे। लेकिन हम उसे अनसुना कर रहे थे। जिसका परिणाम अब सबके सामने हैं। जिसके बाद अब कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया को ये सुनने के लिए मजबूर किया कि हम उन चेतावनियों पर ध्यान दें।

तो आइए जानते है वो सबक-

  1. स्वास्थ्य सेवाओं-

कोरोना वायरस से पूरी दुनिया जूझ रही है। जिसने दुनिया को ये बात अच्छी तरह समझा दी है कि डॉक्टर और स्वास्थ्य सुविधाओं की अहमियत क्या है। इस समय पूरी मानव सभ्यता अपनी जिंदगी की उम्मीद डॉक्टरों या स्वास्थ्यकर्मियों के ही भरोसे बांधे हुए है। आज के समय में उन्हें ही देवता माना जा रहा हैं। साथ ही मनुष्य को पता चल गया है अगर इस संकट की घड़ी में वो ही अगर नहीं होते तो पूरी दुनिया हाथ पर हाथ धरे बैठी रहती और कब मौत आ जाती पता भी नहीं चलता। चाहे किसी व्यक्ति के पास कितना भी बैंक बैंलेन्स क्यूं न होता, मौत बैंक बैंलेन्स देख के नही आती।

कोरोना के ये सबक दुनिया को जिंदगीभर याद रहेंगे

कोरोना वायरस ने मचाया दुनियाभर में कोहराम, ब्रिटेन में बढ़ी मरने वालों की संख्या

तो वहीं आम जनता को भी समझ आ गया है कि एक खिलाड़ी या अभिनेता से ज्यादा जरुरी एक डॉक्टर है। लोगों की जान बचाने वाले ही असली जिंदगी के हीरो होते हैं। इसके अलावा सरकार और नीति नियंताओं को भी ये सबक हासिल हुआ है कि स्वास्थ्य सेवाओं पर ज्यादा से ज्यादा पैसे खर्च करना कितना जरूरी हैं।

आपको बता दें कि आम तौर पर दुनियाभर के देश स्वास्थ्य सेवाओं पर खर्च करने में कंजूसी करते हैं। तो आइए आपको बताते है, कौन सा देश कितना खर्च करता हैं-

  • अमेरिका -18 फीसदी
  • ब्राजील लगभग -8.3 प्रतिशत
  • रूस -7.1 प्रतिशत
  • दक्षिण अफ्रीका -लगभग 8.8 प्रतिशत
  • चीन -6 प्रतिशत
  • मलयेशिया -4.2 फीसदी
  • थाइलैंड -4.1 फीसदी
  • फिलीपींस – 4.7 फीसदी
  • इंडोनेशिया – 2.8 फीसदी
  • नाइजीरिया – 3.7 फीसदी
  • श्रीलंका – 3.5 फीसदी
  • पाकिस्तान -2.6 फीसदी
  • भारत -मात्र 1.15 फीसदी

स्वास्थ्य सेवाओं पर खर्च करते है।

  1. परमाणु बम और मिसाइल या स्वास्थय सेवाएं-

अति सुक्ष्म आकार का कोरोना वायरस ये बड़ी बड़ी इंटर कांटिनेन्टल बैलेस्टिक मिसाइलों(ICBM) और भारी भरकम परमाणु हथियारों(Nuclear Weapons) से ज्यादा खतरनाक है। तो वहीं दुनियाभर में परमाणु हथियारों को इकट्टा करने की होड़ लगी हुई है, आपको बता दें कि पूरी दुनिया में 14465(चौदह हजार चार सौ पैंसठ) परमाणु हथियार इकट्टा हो गए हैं। इसमें से 3750(तीन हजार सात सौ पचास) परमाणु हथियार लगातार एक्टिव मोड में हैं। जिन्हें कुछ ही पलों में फायर किया जा सकता है। इन परमाणु हथियारों की बदौलत पूरी दुनिया 21 बार नष्ट हो सकती है। तो आइए आपको बताते है कौन से देश के पास कितने परमाणु हथियार हैं-

कोरोना के ये सबक दुनिया को जिंदगीभर याद रहेंगे

कोरोना वायरस का कहर जारी, दिल्ली ट्रैफिक पुलिस का ASI भी कोरोना पॉजिटिव

रुस के पास -6850

  • अमेरिका के पास -6450 परमाणु हथियार
  • फ्रांस के पास -300 परमाणु हथियार
  • चीन के पास -280 परमाणु हथियार
  • ब्रिटेन के पास -215 परमाणु हथियार
  • पाकिस्तान के पास -150 परमाणु हथियार
  • भारत के पास -140 परमाणु हथियार
  • इजरायल के पास -80 परमाणु हथियार
  • उत्तर कोरिया -20 परमाणु हथियार

इसके अलावा मिसाइलों की गिनती भी लाखों में हैं, जो दुनिया में कहीं भी वार कर सकती हैं।

शंघाई में क्यों नहीं है कोरोना वायरस से संक्रमित लोग, जाने यहां…..

  1. कट्टरपंथियों का स्थायी इलाज जरुरी-

कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए भारत सरकार ने देशभर में पहले ही लॉकडाउन जारी कर दिया था। हालत ज्यादा खराब नहीं हुई थी। लेकिन मजहबी कट्टरपंथी और दकियानूसी सोच के लोग दुनिया के लिए बड़ा खतरा पैदा कर दिया हैं, खुद वो बड़े खतरा बन गए। देश में तबलीगी जमात के लोग के कारण कोरोना के मामलों में भारी उछाल आया हैं। जिसके कारण इन लोगों ने पूरे देश को खतरे में डाल दिया हैं।

AB STAR NEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है