संस्था के मेंबर ये किताबें पैसों से नहीं खरीदते बल्कि स्कूल के बच्चे किसी भी कक्षा से पास होने के बाद पुरानी किताबों के सेट को इस स्टॉल में जमा करवा देते हैं

अबतक आपने बहुत से लंगर देखे होंगे जब लोग मंदिरों और पूजा पाठ के बाद अपनी खुशी से लंगर करवाते हैं। लेकिन आज जिस लंगर के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं वो शहरवासियों में चर्चा का विषय का बना हुआ है बल्कि लोगों की तारीफ भी बटोर रहा है। बता दें जिस लंगर की हम बात कर रहे हैं वो कोई और नहीं बल्कि किताबों का लंगर है। दरअसल, तेरा-तेरा’ संस्था द्वारा ‘पेड़ बचाओ, पानी बचाओ’ और ‘कागज बचाओ’ का उद्देश्य लेकर पंजाब के फरीदकोट में स्कूल के बाहर एक ऐसा स्टॉल लगाया जाता है जहां पर स्कूल से जुड़ी हर कक्षा की किताबों के सेट रखे जाते हैं। इस लंगर की खासियत ये है कि यहां से कोई भी बच्चा अपनी जरूरत के अनुसार कोई भी किताबें ले जा सकता है।

Coronavirus: 31 मार्च तक दिल्ली के सभी प्राथमिक स्कूल बंद

बता दें, संस्था के मेंबर ये किताबें पैसों से नहीं खरीदते बल्कि स्कूल के बच्चे किसी भी कक्षा से पास होने के बाद पुरानी किताबों के सेट को इस स्टॉल में जमा करवा देते हैं साछ ही नई कक्षा के किताबों का सेट यहां से बदल कर ले जाते हैं। बता दें, संस्था द्वारा दूसरी बार ये स्टाल लगाया गया है जिसमें हजारों की संख्या में बच्चे अपनी किताब चेंज कर अपनी जरूरत के मुताबिक फायदा उठा रहे हैं। यहां आपको बता दें कि इस संस्था के द्वारा एक और नई पहल की शुरूआत की गई है। जिसके मुताबिक, जिन बच्चों की स्कूल की ड्रेस छोटी हो जाती है, तो वो उस ड्रेस को स्टॉल पर दे जाते हैं ताकि गरीब परिवार या फिर जरूरतमंद बच्चों में उसे बांटा जा सके।

संस्था के मेंबर अमनदीप ने बताया, “ ‘तेरा-तेरा’ संस्था द्वारा दूसरी बार ये किताबों का एक्सचेंज स्टाल लगाया गया है जिसमें स्कूल के बच्चे अपनी पुरानी कक्षा की किताबें रख जाते हैं और नई कक्षा की किताबें ले जाते हैं. इस तरह माता-पिता पर आंतरिक बोझ नहीं पड़ता और किताबों के नाम पर हो रही लूट से भी बचाव हो जाता है. वहीं, इस संस्था का उद्देश्य एक संदेश ‘पानी बचाओ, पेड़ बचाओ’ और ‘कागज बचाओ’ पब्लिक तक पहुंचाना है क्योंकि इन किताबों को तैयार करने के लिए हजारों पेड़ों की कटाई कर उनसे कागज तैयार किया जाता है”।

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते हैं