coronavirus, treatment costly, Corona Positive Cases

दुनियाभर में महामारी की तरह फैल चुके कोरोना के बीच एक ऐसी खबर सामने आई है जिसे पढ़कर आप चौक जाएंगे।

कोरोना वायरस के कहर के कारण शक्तिशाली देश डरे हुए हैं। लोग इस महामारी से बचने के लिए तरह-तरह के नुसके आजमा रहे हैं। इस बीच एक हैरान करने वाला एक मामला सामने आया है। बता दें, कोरोना वायरस संक्रमण की जांच और ट्रीटमेंट के लिए हॉस्पिटल की ओर से एक महिला को 26 लाख 41 हजार रुपये का बिल भेजा गया है। time.com की रिपोर्ट के अनुसार, फरवरी के अंत में डैनी एस्किनी नाम की महिला की छाती में दर्द शुरू हुआ था जिसके बाद वो हॉस्पिटल पहुंची। एस्किनी को छाती में दर्द के साथ ही सांस लेने में परेशानी और माइग्रेन की भी समस्या हो रही थी। वहीं महिला को देखकर उनके डॉक्टर को लगा कि महिला को नई दवा की वजह से रिएक्शन हो रहा है। जिसके बाद अमेरिका के बॉस्टन की रहने वाली महिला को एक हॉस्पिटल के इमरजेंसी में भेजा गया।

खुशखबरी: US के सुपर कंप्यूटर ने खोजा कोरोना का इलाज

शुरुआती जांच में डॉक्टरों ने पाया कि महिला एस्किनी को निमोनिया है जिसके बाद उन्हें घर भेज दिया गया, लेकिन कुछ दिनों बाद महिला का टेंपरेचर बढ़ने लगा और कफ भी शुरू हो गया। वहीं जब दो बार और हॉस्पिटल जाने के बाद बीमारी के सातवें दिन एस्किनी का महामारी कोरोना वायरस का टेस्ट किया गया और उन्हें फिर स्वस्थ होने के लिए घर जाने दिया। टेस्ट के तीन दिन बाद महिला के वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई। जिसके कुछ दिनों बाद ही महिला को हॉस्पिटल की ओर से जांच और ट्रीटमेंट के लिए 26 लाख से ज्यादा का बिल भेजा गया। एस्किनी ने कहा- “मैं बिल देखकर हैरान रह गई. मैं निजी तौर पर किसी को नहीं जानती जिनके पास इतने अधिक रुपये हों”।

आपको बता दें कि इस वक्त भारत में वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 285 हो गई है। 6700 से ज्यादा लोगों को निगरानी में रखा गया है। शनिवार की सुबह तक दुनिया में संक्रमित लोगों का आंकड़ा 2,76,000 से अधिक है, वहीं मृतकों की संख्या 11,400 से अधिक हो गई है।

AB STAR NEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते हैं