Bihar Assembly Elections 2020: महागठबंधन का घोषणा पत्र हुआ जारी

0
39

नवरात्र की शुरुआत के साथ ही महागठबंधन ने घोषणा पत्र जारी कर किए नए वादे

आज नवरात्र का पहला दिन है। ऐसे में बिहार विधानसभा चुनाव के लिए महागठबंधन ने अपना घोषणा पत्र जारी किया है। महागठबंधन ने साझा घोषणापत्र को बदलाव के संकल्प पत्र का नाम दिया है। आरजेडी के साथ-साथ कांग्रेस और वाम दलों में सरकार गठन के बाद बिहार के लिए जो प्राथमिकताएं तय की है उसका जिक्र इस घोषणापत्र में किया गया है।

तेजस्वी यादव ने कहा कि आज शुभ दिन है, नवरात्र की शुरुआत है, कलश की स्थापना की गई है। कलश स्थापना के दिन संकल्प लिया जाता है। हम प्रण हमारा, संकल्प बदलाव का जारी कर रहे हैं।

राहुल-प्रियंका बिहार में भरेंगे हुंकार

पटना के एक होटल में आयोजित पत्रकार वार्ता में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला समेत वाम दलों के प्रमुख नेताओं के साथ साझा घोषणापत्र को जारी किया गया।

घोषणा पत्र में किए गए हैं ये वादे

  1. पहली कैबिनेट में दस लाख नौजवानों को रोजगार।
  2. परीक्षा के लिए भरे जाने वाले आवेदन फार्म पर फीस माफ।
  3. परीक्षा केंद्रों तक जाने का किराया सरकार देगी।
  4. हमारा संकल्प है कि पलायन रोकेंगे।
  5. कर्पूरी श्रम सहायता केंद्र खोलेंगे, इससे लोगों की मदद करने में आसानी होगी।
  6. शिक्षकों के लिए सामान काम सामान वेतन का वादा पूरा करेंगे।
  7. जीविका दीदियों का मानदेय दोगुना करने का वादा।
  8. पहले विधानसभा सत्र में केंद्र के कृषि संबंधी तीनों बिल के प्रभाव से बिहार के किसानों को मुक्ति दिलाने का वादा किया गया है।

तेजस्वी ने कहा कि पहली कैबिनेट में ही दस लाख युवाओं को नौकरी दी जाएगी। और फीस माफी की भी घोषणा होगी। कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि ये चुनाव नई दशा बनाम दुर्दशा का चुनाव है, ये चुनाव नया रास्ता और नया आसमान बनाम हिन्दू-मुसलमान का चुनाव है, ये चुनाव नए तेज़ बनाम फ़ेल तजुर्बे की दुहाई का चुनाव है, ये चुनाव खुद्दारी और तरक्की बनाम बंटवारा और नफरत का चुनाव है।

घोषणा पत्र जारी करते हुए तेजस्वी यादव ने कहा, ‘बिहार में डबल इंजन की सरकार है। पिछले 15 साल से नीतीश कुमार बिहार में सरकार चला रहे हैं, लेकिन आज तक वो हमारे प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा नहीं दिला पाए। विशेष राज्य का दर्जा दिलाने के लिए डोनाल्ड ट्रंप अमेरिका से आकर बातचीत नहीं करेंगे। हम वादा करते हैं कि कैबिनेट के पहले फैसले में ही बिहार में युवाओं को 10 लाख सरकारी नौकरी दी जाएंगी। इसके अलावा बिहार में हमारी सरकार बनने के बाद हम प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा दिलाएंगे। बिहार की जनता इस घोषणा पत्र से कितनी प्रभावित हुई है ये तो चुनाव परिणाम आने के बाद ही सामने आएगा।

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है