आखिर जानवरों से ही वायरस फैलने का खतरा क्यों ?

0
20

चीन की वेट मार्केट में जानवरों जिनमें सुअर, सांप, मेंढक और चमगादढ़ समेत कई जानवरों को खुले में ही काट कर बेचा जाता है।

कोरोना वायरस रूपी महामारी विक्राल रूप ले चुकी है। जिससे बचने का उपाय अभी तक कोई भी ढूंढ नहीं सका है। चूंकि अभी तक इससे बचने का सिर्फ एक ही उपाय नजर आ रहा है और वो है सोशल डिस्टेंसिंग और लॉकडाउन। क्योंकि यही मात्र एक रास्ता है जिससे कोरोना वायरस की चेन को तोड़ा जा सके। इसीलिए भारत में सरकार द्वारा देश को ही लॉकडाउन कर दिया गया है ताकि लोग अपने-अपने घरों में सुरक्षित रहें और कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोका जा सके। आपको बता दें कि कोरोना वायरस से पहले भी दुनिया 1918 में स्पैनिश फ्लू का शिकार हो चुकी है। स्पेनिश फ्लू की वजह से पूरी दुनिया में कम से कम 5 करोड़ लोगों की जान चली गई थी। केवल भारत में ही इस वायरस की वजह से 1 करोड़ 20 लाख लोगों ने जान गंवाई थी।
जानवरों से क्यूं फैलते है वायरस ?

एबीस्टार की राज्य सरकारों से अपील दैनिक उपभोग की आवश्यक वस्तुओं…

आज हम न सिर्फ कोरोना वायरस की बात करेंगे बल्कि कई ऐसे और भी वायरस हैं जो जानवरों से ही फैलते हैं। चीन से हाल ही में दो वायरस सामने आये हैं एक कोरोना वायरस और एक हंता वायरस। बता दें कि चीन की वेट मार्केट में जानवरों जिनमें सुअर, सांप, मेंढक और चमगादढ़ समेत कई जानवरों को खुले में ही काट कर बेचा जाता है। जिसके चलते वहां इन जानवरों का मल, खून, पस, थूक आदि खुले में ही पड़ा रहता है। जिससे वायरस पनपते हैं और जब

21 दिन के इस लॉकडाउन में घर पर बैठकर इन सब्जियां…

मार्केट में लोग खरीददारी करने आते है तब बड़ी ही आसानी से ये वायरस मनुष्यों के शरीर में प्रवेश कर लेता है। सन् 1988 चीन सरकार ने वाइल्ड लाइफ प्रोट्क्शन कानून के तहत इन जानवरों की खेती को कानूनन सुरक्षित कर दिया। जिसके बाद ही चीन में वेट मार्केट ज्यादा बढ़ गये और साथ ही साथ वायरस का खतरा भी और ज्यादा बढ़ गया। कुल मिलाकर चीन को पूर्णतया कोरोना वायरस के लिए जिम्मेदार माना जाता है। आपको बता दें कि एक रिपोर्ट के अनुसार चीन जंगली जानवरों का व्यापार करना चाहता था जिस पर कोरोना वायरस की वजह से अब रोक लगा दी गई है।

AB STAR NEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते हैं