विश्व स्वास्थ्य संगठन की दुनिया को चेतावनी

घर में रहकर आप कोरोना के संक्रमण से खुद को सुरक्षित रख सकते हैं लेकिन आखिर कब तक घर में लोगों को खुद को कैद करके रखना पड़ेगा

कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में अपने पैर पसार लिए हैं और जब कोई रास्ता नहीं तो सरकार ने लॉकडाउन की घोषणा के साथ देशवासियों को सुरक्षित रखने का फैसला लिया। हालांकि लॉक डाउन की स्थिति में कई मुश्किलें भी आ रही हैं। दुनिया के कई देशों ने लॉक डाउन को अपनाया है और लॉक डाउन के सकारात्मक प्रभाव भी देखने को मिले हैं लेकिन क्या लॉक डाउन कोरोना से निपटने के लिए काफी है ये बड़ा सवाल है। कोरोना से निपटने के लिए लॉक डाउन कितना प्रभावी है और क्या लॉक डाउन के माध्यम से कोरोना को जड़ से खत्म किया जा सकता है आइए जानते है लॉक डाउन पर विश्व स्वास्थ्य संगठन का सुझाव

कोरोना को दूर भगाने में फायदेमंद हैं ये जूस!

लॉक डाउन पर विश्व स्वास्थ्य संगठन का विचार

दुनिया के तमाम देशों में लागू लॉक डाउन को देखते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन के डायरेक्टर जनरल टेडरोस अधानोम गेब्रियेसस ने स्पष्ट किया है कि लॉक डाउन कोरोना को खत्म करने का समाधान नहीं बल्कि कोरोना से बचने का सुरक्षित तरीका है। घर में रहकर आप कोरोना के संक्रमण से खुद को सुरक्षित रख सकते हैं लेकिन आखिर कब तक घर में लोगों को खुद को कैद करके रखना पड़ेगा इसका जवाब किसी के पास नहीं क्योंकि जो वायरस पूरी दुनिया में फैल चुका है उसके खत्म होने की समय सीमा अभी निर्धारित नहीं है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए WHO ने लॉक डाउन करने वाले देशों को चेतावनी दी है कि लॉक डाउन कोरोना को खत्म करने का पूर्णतया समाधान नहीं है। विश्व स्वास्थ्य संगठन का मानना है कि लॉक डाउन से इस महामारी को खत्म नहीं किया जा सकता। इसी के साथ WHO ने सभी देशों से इस समय का उपयोग करके कोरोना वायरस को जड़ से खत्म करने की दिशा में कार्य करने का आह्वान किया है। WHO का मानना है कि जिन देशों ने कोरोना वायरस से बचने के लिए लॉक डाउन को अपनाया है वो कोरोना से बचाव की दिशा में उठाए जाने वाले कदमों में दूसरा चरण है क्योंकि हम बचाव तो कर रहे हैं लेकिन वायरस को खत्म करने की दिशा में अभी भी पीछे हैं।

कोरोना वायरस से चीन से ज्यादा स्पेन में हुई लोगों की मौत

कोरोना वायरस को खत्म करने के लिए लॉक डाउन के अलावा क्या है जरूरी ?

WHO के डायरेक्टर का कहना है इसमे कोई संदेह नहीं कि लॉक डाउन कोरोना से बचाव के लिए सभी देशों द्वारा उठाया गया एक सराहनीय कदम है क्योंकि लोगों के घर में रहने से हेल्थ सिस्टम पर दबाव घटेगा लेकिन इसस कदम से महामारी खत्म नहीं होगी। WHO ने लॉक डाउन अपनाने वाले सभी देशों को सुझाव दिया है कि लॉक डाउन की स्थिति में सभी देश इसस वायरस पर हमला करने के लिए इस समय का सदुपयोग करें। आप दूसरे चरण पर यानि कि लॉक डाउन कर लोगों को घर में सुरक्षित रखने का प्रभावी कदम उठा चुके हैं लेकिन प्रथम चरण पर काम करने की अब आवश्यकता है यानि कि लॉक डाउन की स्थिति में इस समय आपको कोरोना वायरस पर हमला करना है जिससे महामारी को जड़ से खत्म किया जा सके।

लॉक डाउन के समय का कैसे करें उपयोग ?

WHO कका कहना है कि इस वक्त जब आप लॉक डाउन कर हालात को नियंत्रित कर रहे हैं तब आपको इस समय की महत्ता को समझते हुए सही उपयोग की आवश्यकता है। इस वक्त आपको मॉनिटरिंग बड़े ही तीव्र स्तर पर करनी है जिससे आइसोलेशन में रखे जाने वाले लोगों को खोजना, उनके आइसोलेशन की पूरी व्यवस्था करना, उनका परीक्षण करना और इलाज करके इस महामारी को फैलने से पूरी तरह खत्म करने की दिशा में कदम उठाना चाहिए। इस कार्य को करने में सामाजिक और आर्थिक स्तर पर भी बड़े कदम उठाने की जरूरत है साथ ही सहयोग की भावना से इस कार्य को सफल बनाया जा सकता है।

AB STAR NEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते हैं