निर्भया के इंसाफ का पूरा सफर

दोषियों को फांसी पर लटकाए जाने के बाद निर्भया की मां आशा देवी का कहना है कि भगवान के घर में देर है, अंधेर नहीं।

16 दिसंबर 2012 में चलती बस में एक लड़की की दर्द भरी आवाज ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया था। 2012 में वो लड़की तो अपना इंसाफ लिए बिना दुनिया से चली गई लेकिन उसको इंसाफ दिलाने के लिए पूरा देश खड़ा हो गया था। आज करीब 7 साल के बाद 20 मार्च 2020 के दिन निर्भया के दोषियों को फांसी पर लटका दिया गया है। जिसके बाद से ही पूरे देश में खुशी का माहौल है। दोषियों को फांसी पर लटकाए जाने के बाद निर्भया की मां आशा देवी का कहना है कि भगवान के घर में देर है, अंधेर नहीं। तो वहीं उत्तर प्रदेश के बलिया जिले में स्थित निर्भया के गांव में जश्न का महौल है। निर्भया के दादा लाल सिंह ने गांव में चारों दोषियों को फांसी की सजा के साथ ही मिठाई बांटकर खुशी का इजहार करते हुए कहा कि दोषियों को फांसी पर लटकाए जाने के बाद दो-तिहाई कोरोना वायरस खत्म हो गया। इस दौरान लोगों ने एक दूसरे को एक दूसरे को गुलाल लगाया और गांव के एक शिव मंदिर के सामने मोमबत्तियां जलाकर खुशी का इजहार किया।

दोषियों की फांसी के बाद तिहाड़ के बाहर कुछ ऐसा था नजारा

क्या था पूरा मामला

बता दें, सात साल 3 महीने और तीन दिन पहले यानी 16 दिसंबर 2012 की रात को पैरामेडिकल छात्रा निर्भया के साथ दिल्ली के वसंत विहार इलाके में चलती बस में बर्बर तरीके से सामूहिक दुष्कर्म किया गया था। इस रौंगटे खड़े कर देने वाली घटना के बाद पीड़िता को इलाज के लिए सिंगापुर ले जाया गया, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई थी। राजधानी में हुई निर्मम घटना ने पूरे देश को डर से भर दिया था। सड़कों पर युवाओं का सैलाब निर्भया के लिए इंसाफ मांगने के लिए निकला था और आज जाकर उसका नतीजा निकला है। तो आइए आपको बताते है निर्भया की पूरी कहानी

निर्भया केस: अरविंद केजरीवाल बोले- न हो दूसरी निर्भया, 6 महीने में हो फांसी

  • 3 जनवरी 2013 :- 5 आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की गई।
  • 2 फरवरी 2013 :- पांचों आरोपियों के खिलाफ आरोप तय
  • 11 मार्च 2013 :- पांच में से एक आरोपी राम सिंह ने तिहाड़ जेल में फांसी लगा गई।
  • 31 अगस्त 2013 :- छठें नाबालिग आरोपी को बाल सुधार ग्रह में सुधारने के लिए भेजा गया।
  • 10 सितंबर 2013 :- निर्भया के आरोपी दोषी करार
  • 13 सितंबर 2013 :- निर्भया के दोषियों को फांसी की सजा
  • 01 नवंबर 2013 :- निर्भया केस की दिल्ली हाइकोर्ट में हर रोज सुनवाई
  • 13 मार्च 2014 :- दिल्ली हाइकोर्ट में निर्भया केस की फांसी की सजा बरकरार
  • 20 दिसंबर 2015 :- पांचवे नाबालिग आरोपी की तीन साल की सजा पूरी
  • 3 अप्रैल 2016 :- निर्भया केस की सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई
  • 5 मई 2017 :- सुप्रीम कोर्ट में निर्भया के दोषियों की फांसी की सजा बरकरार
  • 9 जुलाई 2018 :- सुप्रीम कोर्ट ने निर्भया के 3 दोषियों की रिव्यू पिटीशन याचिका खारिज की।
  • 7 जनवरी 2020 :- दिल्ली कोर्ट ने सभी चार दोषियों की फांसी के लिए वारंट जारी किया
  • 5 मार्च 2020 :- दिल्ली कोर्ट ने 20 मार्च फांसी की तारिख तय की।
  • 19 मार्च 2020 :- दिल्ली कोर्ट ने फांसी की तारिख पर स्टे लगाने से मना किया।
  • 20 मार्च 2020 :- तिहाड़ जेल में सुबह साढ़े पांच बजे दोषियों को फांसी दी गई।

AB STAR NEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते हैं