बिहार की राजनीति में फिर चूहों की एंट्री

RJD के विधान पार्षद सुबोध कुमार राय एक जिंदा चूहे को चूहेदानी में लेकर सदन में पहुंच गए।

शुक्रवार को बिहार विधानमंडल में बजट सत्र में एक अनोखी चीज देखने को मिली, जब सत्र के दौरान RJD के विधान पार्षद सुबोध कुमार राय एक जिंदा चूहे को चूहेदानी में लेकर सदन में पहुंच गए। सुबोध से जब इसका कारण पूछा गया तो उन्होंने कहा कि बिहार में शराब गटकने वाला, बांध को खाने वाला अस्पताल में रखे स्लाइन पीने वाला ‘गुनहगार’ चूहा आज पकड़ा गया है। उन्होंने कहा कि राज्‍य की NDA सरकार को चाहिए इस गुनहगार चूहे को कड़ी से कड़ी सजा दी जाए। उनके साथ कांग्रेस के विधान परिषद के कुछ सदस्य भी शामिल हुए और ये ड्रामा काफी घंटो तक विधान परिषद के गेट पर चलता रहा।

अपराधियों के बाद अब यूपी में होगा चूहों का एनकाउंटर, हंसिए मत खबर गंभीर…

दरअसल, आरजेडी नेता और बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने कुछ दिन पहले ही चूहे के कारनामे को लेकर एक पोस्टर ट्वीट करते हुए लिखा था कि चूहे बिहार छोड़े या चूहासन करने वाले छोड़ें? जिसके  बाद पटना के कई स्थानों पर भी चूहे वाली पोस्टर को लगाया गया था। ऐसे में विपक्षी पार्टियां अब चूहों के जरिए बिहार में NDA की सरकार पर निशाना साध रही हैं। माना जा रहा है कि ऐसा पहली बार हुआ है, जब कोई नेता विधानमंडल सत्र के दौरान जिंदा चूहा लेकर सदन पहुंचा हो। इस मामले में राबड़ी देवी का भी समर्थन मिल गया है। राबड़ी देवी ने इसपर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि बिहार में बाढ के दौरान जब जल संसाधन विभाग का बांध टूट गया था, तब उस समय के मंत्री ललन सिंह ने कहा था कि चूहों की वजह से बांध टूटा है।

बिहार की राजनीति में फिर चूहों की एंट्री

राबड़ी देवी ने कहा कि बिहार की नीतीश सरकार चूहों पर दोषारोपण करती है, इसलिए सजा दिलाने के लिए आरजेडी के सदस्य चूहा लेकर पहुंचे हैं। बता दें कि इसी साल के अंत में बिहार विधानसभा का चुनाव होना है। इसको देखते हुए नेताओं के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो चुका है। राज्य में पहले से ही JDU और  RJD के बीच पोस्टर वॉर शुरू है। तो वहीं अब विपक्ष, चूहों के जरिए नीतीश सरकार पर निशाना साध रही है।

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते हैं