14 अप्रैल से आगे बढ़ेगा लॉकडाउन!

0
62

लॉक डाउन पर जानिए केंद्र सरकार की योजना

कोरोना वायरस पर नियंत्रण पाने के लिए सरकार ने 21 दिनों के लॉक डाउन की घोषणा की थी। जिसे लेकर कई कयास लगाए जाने लगे कि जिस तरह सरकार जनता कर्फ्यू लगाने के बाद घोषणा कर 21 दिन के लॉक डाउन का ऐलान किया था उसी तरह 21 दिन बाद लॉक डाउन की अवधि को और बढ़ाने पर सरकार विचार कर सकती है। लेकिन फिलहाल इन रिपोर्ट्स पर केंद्र सरकार ने असहमति जाहिर कर दी है।

लॉक डाउन बढ़ाने के विचार पर केंद्र सरकार का रूख

लॉक डाउन बढ़ाने को लेकर जिस तरह लोगों के बीच अफवाहों का बाजार गर्म है तो फिलहाल केंद्र सरकार ने इन अफवाहों का खंडन कर दिया है। कैबिनेट सचिव राजीव गौबा ने ट्वीट कर लॉक डाउन को बढ़ाने की खबरों पर विराम लगाया और इस तरह की रिपोर्ट्स पर हैरानी भी जताई। उन्होने कहा कि लॉक डाउन की अवधि को बढ़ाने को लेकर केंद्र सरकार की कोई योजना नहीं है।

पलायन के मद्देनज़र सरकार ने सख्त आदेश

लॉक डाउन की स्थिति में मजदूरों पर आए संकट और लगातार मजदूरों के पलायन को देखते हुए केंद्र सरकार ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से लॉक डाउन को सख्ती से लागू करने का आदेश दिया है। इसके साथ ही मजदूरों की स्थिति को समझते हुए सरकार ने इस लॉक डाउन अवधि के दौरान मजदूरों को सुविधाओं का लाभ देने के लिए कई नियम भी लागू किए हैं।

दिल्ली में लॉकडाउन का पालन न कराने पर 4 अफसरों पर गिरी गाज, 2…

लॉक डाउन ने थामी रफ्तार

कोरोना वायरस से बचाव के लिए लॉक डाउन के ऐलान के बाद सड़कों पर पसरा सन्नाटा आर्थिक  मंदी के भविष्य को भी बयां कर रहा है। लॉकक डाउन के चलते मेट्रो, ट्रेन, हवाई सेवा, कारोबार, नौकरी, सब कुछ ठप हो चुका है। लोग अपने घरों में भी चैन की नींद नहीं सो पा रहे क्योंकि सभी को डर है इस लॉक डाउन के बाद आर्थिक संकट से जूझने का। कैसे नौकरी मिलेगी, सैलरी का क्या होगा, फिर से कारोबार को कैसे रफ्तार मिलेगी इस तरह के तमाम सवालों ने हर व्यक्ति की नींद को काबू कर रखा है।

यह 6 तरीके दूर करेंगे घर में लॉकडाउन से बढ़ रहा स्ट्रेस

आखिर लॉक डाउन की अफवाहों का सिलसिला क्यों शुरू हुआ ?

दरअसल लॉक डाउन के दौरान आम जनजीवन सीधे तौर पर प्रभावित होना तय था। सरकार ने हर सुविधा का ध्यान रखा और लोगों तक हर सुविधा को मुहैया कराने की दिशा में काम भी किया लेकिन बावजूद इसके हालात नियंत्रण से बाहर हो रहे थे। तमाम ऐसे संकट हर व्यक्ति के सामने खड़े हो रहे थे जो उसके जीवन को प्रभावित कर रहे थे। ऐसे में सरकार हर समस्या का तोड़ निकालने की जुगत में रही और वित्त मंत्राललयय ने राहत पैकेज की घोषणा की। इस दौरान सरकार द्वारा जितने भी सहायता पैकेज, राहत पैकेज का ऐलान किया गया वो सभी 3 महीने के लिए था। ऐसे में लोगों के मन में अफवाहों ने जन्म लिया कि लॉक डाउन जब 21 दिनों का है तो राहत पैकेज आखिर 3 महीने के लिए क्यों ? बस फिर लोगों ने मन में ही सुनिश्चित कर लिया कि अब ये लॉक डाउन 21 दिन के बाद और आगे तक जारी रहेगा। मजदूरों का भारी संख्या में पलायन भी इन अफवाहों और रोजी-रोटी के संकट के भय का परिणाम था। अब ऐसे में ककैबिनेट सचिव के ट्वीट से लोगों को काफी राहत मिल गई है कि 21 दिन के लॉक डाउन के बाद हालात सामान्य हो जाएंगे। हालांकि कोरोना के मरीजों की दिन-प्रतिदिन संख्या के चलते अगर केंद्र सरकार कोई निर्णय लेने को विवश होती है तो कुछ कहा नहीं जा सकता फिलहाल हमारी प्राथमिकता होनी चाहिए कि हम इस लॉक डाउन का सख्ती से पालन करें जिससे कोरोना के कहर पर जितनी जल्दी नियंत्रण मिलेगा उतनी ही जल्दी हमें लॉक डाउन से मुक्ति मिलेगी।

AB STAR NEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते हैं