सीएम उद्धव ठाकरे ने किया बड़ा खुलासा, कहा- मैं अपनी जनता को बचा लूंगा….

0
81

तबलीगी जमात को लेकर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने एक बड़ा खुलासा किया है।

Coronavirus (कोरोना वायरस) भारत में अपेक्षा से अधिक तेजी से फैल रहा है। हर दिन संक्रमण का आंकड़ा लोगों को हिला रहा है। संक्रमित लोगों के अधिकांश मामले Tablighi Jamaat (तब्लीगी जमात) से संबंधित हैं। तबलीगी जमात को लेकर Maharashtra (महाराष्ट्र) के CM Uddhav Thackeray (मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे) ने एक बड़ा खुलासा किया है। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में भी इसकी अनुमति दी गई थी, लेकिन बाद में स्थिति के कारण इसे प्रतिबंधित कर दिया गया था।

कोरोना से जंग के लिए सीएम योगी ने बनाया ‘उत्तर प्रदेश कोविड केयर फंड’

अपने बयान में, CM Uddhav (सीएम उद्धव) ने कहा कि दिल्ली में जो कुछ भी हुआ है, हमने इसे महाराष्ट्र में नहीं होने दिया। इसे (तब्लीगी जमात) पहले अनुमति दी गई थी, लेकिन बाद में, स्थिति को देखते हुए, हमने अनुमति से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि अधिकारियों ने अब उन सभी लोगों का पता लगाया है जो हमारे राज्य से दिल्ली कार्यक्रम में गए थे।

भारत सरकार ने कोरोना को मात देने के लिए लॉन्च किया,…

इसके अलावा, ठाकरे ने यह भी कहा कि क्या 14 अप्रैल के बाद राज्य में Lockdown (लॉकडाउन) को खत्म किया जाएगा, यह लोगों के व्यवहार से तय होगा। यह देखा जाएगा कि लोग सरकारी दिशानिर्देशों का कितना पालन करते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि राज्य में किसी भी धार्मिक, खेल आयोजन की अनुमति नहीं दी जाएगी। महाराष्ट्र सीएम ने कहा कि कोविड-19 की तरह एक सांप्रदायिक वायरस भी है। “मैं उन लोगों को चेतावनी दे रहा हूं, जो नागरिकों में गलत संदेश फैला रहे हैं। उनको बताना चाहता हूं कि कोरोना वायरस से तो मैं अपनी जनता को बचा लूंगा, लेकिन उसके बाद तुम्हें मुझसे कोई नहीं बचा पायेगा। इसलिए कृपया कर गलत वीडियो ना घुमाएं। कोरोना वायरस कोई धर्म नहीं देखता है। उद्धव ठाकरे ने कहा कि महाराष्ट्र में राजनीतिक, धार्मिक या खेलकूद से जुड़े कार्यक्रमों की अगले नोटिस तक इजाजत नहीं होगी, ताकि कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर लोगों का आपस में मिलना-जुलना न हो।“
कोरोना को मात देने के लिए हॉन्ग-कॉन्ग से लेकर सिंगापुर कर…

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि, “हमने मुम्बई में जांच केंद्र बढ़ाया है। इसलिए मरीजों की संख्या बढ़ती हुई दिख रही है, लेकिन 51 लोग ठीक भी हुए हैं। दुर्भाग्य से कुछ लोगों की मृत्यु हुई है। पर वो बुजुर्ग थे, बीमार थे। कहने का मतलब ये कि हम सभी को अपने घर परिवार में बुजुर्गों का विशेष ख्याल रखना है। उनसे विशेष दूरी बनाये। महाराष्ट्र में करीब 5 लाख मजदूरों (दूसरे राज्यों के और कुछ महाराष्ट्र के भी) के रहने, खाने की व्यवस्था की जा रही है। मैं अपेक्षा करता हूं कि दूसरे राज्य के मुख्यमंत्री उनके यहां महाराष्ट्र के कोई लोग फंसे हों तो उनका ख्याल रखें।“

AB STAR NEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है