जब सेंगर ने अदालत से रहम की मांगी भीख, तो अदालत ने कही ये बात

0
51

सेंगर ने कहा कि उनकी दो बेटियां हैं लिहाजा मुझे छोड़ दिया जाए। जिसके जवाब में न्यायाधीश ने कहा कि आपका ही तो एक परिवार है? हर किसी का है। आपको यह सब अपराध करते समय सोचना चाहिए था।

नई दिल्ली: उन्नाव रेप कांड मामले में पूर्व बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट ने पीड़ित लड़की के पिता की हत्या करने के मामले में 10 साल की सजा सुनाई है।  साथ ही कोर्ट ने इस मामले में अन्य दोषियों को भी दस-दस साल की सजा सुनाई है।  तीस हजारी कोर्ट ने पूर्व विधायक को दोषी करार देते हुए कहा, जिस तरीके से पीड़िता के पिता की हत्या की गई थी, वह जधन्य था।

कोर्ट के फैसले के बाद सेंगर ने कहा कि उनकी दो बेटियां हैं लिहाजा मुझे छोड़ दिया जाए। जिसके जवाब में न्यायाधीश ने कहा कि आपका ही तो एक परिवार है? हर किसी का है। आपको यह सब अपराध करते समय सोचना चाहिए था।

दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट ने कुल सात आरोपियों को दोषी करार दिया है, उनके नाम क्रमश: पूर्व विधायक कुलदीप सिंह सेंगर, अशोक सिंह भदौरिया, कामता प्रसाद, विनीत मिश्रा उर्फ विनय मिश्रा, शशि प्रताप सिंह उर्फ सुमन सिंह, बीरेंद्र सिंह उर्फ बउवा सिंह, और जयदीप सिंह उर्फ अतुल सिंह है। इसके अलावा कोर्ट ने जिन चार आऱोपियों को बरी किया है वो शैलेंद्र, राम शरण, अमीर खान, और शरदवीर सिंह हैं।

जाहिर है कि उन्नाव के बहुचर्चित रेप कांड ने पूरे देश को हिला के रख दिया था। जिसमें उस वक्त के तत्कालीन विधायक कुलदीप सेंगर पर नाबालिग से दुष्कर्म करने का आरोप लगा था। ऐसे में इन तमाम कवायदों के बीच दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट ने 16 दिसंबर, 2019 को सेंगर को दोषी मानते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई थी।

AB STAR NEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते हैं