कोरोना संदिग्धों को अब पकड़ेगी ये डिवाइस

अब आइसोलेशन वॉर्ड से नहीं भाग पाएंगे मरीज

कोरोना संदिग्धों और संक्रमितों के क्वारंटाइन सेंटर और आइसोलेशन सेंटर से भागने के मामले बड़ तेजी के साथ सामने आ रहे हैं। खासतौर पर तबलीगी जमातियों के भागने और छिपने का सिलसिला खत्म नहीं हो रहा है। कोरोना संदिग्ध और संक्रमित मरीजों के भागने के मामलों ने प्रशासन को परेशान कर दिया है। ऐसे में आखिर कैसे इन संदिग्धों तक पहुंचा जाए ये बड़ी चुनौती बन जाती है। लेकिन अब इस परेशानी को एक डिवाइस के माध्यम से हल किया जाएगा।

कहीं आप कोरोना के फॉल्स नेगेटिव मरीज तो नहीं?

कन्नौज के जीतू ने बनाई RFID डिवाइस 

भारत में कोरोना के बढ़ते मामले और उस पर मरीजों का वॉर्ड से फरार हो जाना नई मुसीबत बनती जा रही है। ये लोग छिपकर अन्य स्थानों पर जाकर रहने लगते हैं और इनके संपर्क में आने वाले अन्य लोग भी संक्रमित हो जाते हैं। इस समस्या से निजात पाने के लिए उत्तर प्रदेश के कन्नौज जिले के जीतू शुक्ला ने रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिटी डिवाइस को बनाया है। ये डिवाइस सेंसर पर आधारित है। इस डिवाइस को विकसित करने की बात जब पुलिस अफसरों तक पंहुची तो उन्होंने इसका परीक्षण करवाया जिसमें इस डिवाइस का परीक्षण सफल रहा। अब इस डिवाइस को पुलिस की मदद के लिए सौंपने की तैयारी चल रही है। जीतू ने बताया कि पुलिस ने कोरोना संदिग्धों के फरार होने के मामलों से परेशान होकर उनसे ऐसी डिवाइस बनाने को कहा जिससे मरीज के भागने के साथ ही उसकी हर हरकत का भी पता चल सके। इस पर जीतू ने डिवाइस को तैयार किया और 7 अप्रैल को इसका सफल परीक्षण भी किया गया। अधिकतर इस तरह की डिवाइस जल्द खराब होती हैं लेकिन इस डिवाइस की 3 साल की वारंटी भी है।

कैसे करेगी डिवाइस कंट्रोलिंग वर्क

कोरोना संदिग्धों को अब पकड़ेगी ये डिवाइस

ये डिवाइस कार रिमोट की तरह है जिसे आसानी से जेब में रखा जा सकता है। इस डिवाइस को आइसोलेशन अथवा क्वारंटाइन सेंटर के अधिकृत प्रभारी को दिया जाएगा। इसमें वॉर्ड और सेंटर के प्रवेश गेट पर लगने वाले थर्मल मोशन सेंसर को लगाया गया है, जिससे जो भी प्रवेश या बाहर जाता है तो उसकी सूचना ये डिवाइस कंट्रोल यूनिट को देती है। इसके अलावा अगर प्रवेश करने या बाहर जाने वाले व्यक्ति के पास ये डिवाइस नहीं है तो इसमें लगा अलार्म तुरंत बज जाएगा। बिना अनुमति मरीज से मिलने जाने वाले लोगों के प्रवेश पर भी तुरंत अलार्म बजेगा।

डिवासिम लगाने की व्यवस्थाइस में 

इस डिवाइस की एक और खासियत है। इसमें सिम लगाने की सुविधा भी है। जितने भी नंबर इस डिवाइस में लगे सिम में सेव होंगे, किसी भी मरीज के भागने पर कॉल और मैसेज के माध्यम से ये डिवाइस इस जानकारी को तुरंत उन तक पहुंचा देगी। इस डिवाइस में ग्लास ब्रेकिंग सेंसर भी फिट है जिससे अगर मरीज खिड़की तोड़कर भागने का प्रयास करता है तो भी वो पकड़ा जाएगा।

Corona Virus से बचने के लिए इन चीजों से बना लें दूरी।

डिवाइस का बड़े स्तर पर उपयोग होगा लाभकारी

इस डिवाइस के फायदे जानने के बाद और जिस तरह कोरोना संदिग्धों और मरीजों के भागने के मामले सामने आ रहे हैं, उन्हे देखते हुए इस डिवाइस को बड़ी संख्या में सभी राज्यों और जिलों में इस्तेमाल के लिए भेजा जाना चाहिए जिससे अगर इन मरीजों के फरार होने का सिलसिला थम गया तो कोरोना के बढ़ते मामलों पर नियंत्रण पाना आसान हो जाएगा।

AB STAR NEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है