अफवाहों से रहें दूर, कोरोना की तीसरी स्टेज से देश सुरक्षित

अफवाहों से रहें दूर, कोरोना की तीसरी स्टेज से देश सुरक्षित

देश में कोरोना वायरस से संक्रमण के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। लेकिन कोरोना से भी ज्यादा खतरनाक है वो अफवाहें जो सोशल मीडिया पर फैला दी जाती हैं और उन अफवाहों का शिकार आम जनता को होना पड़ता है और जाने अनजाने में स्थिति नियंत्रण के बाहर हो जाती है। कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या के साथ ही अफवाह फैलाई जाने लगी कि भारत में कोरोना की तीसरी स्टेज ने दस्तक दे दी है और अब कोरोना का प्रकोप और तेजी से बढ़ेगा।

कोरोना की तीसरी स्टेज का सच

जो अफवाहें हम सोशल मीडिया में पढ़ते हैं कि कोरोना वायरस की तीसरी स्टेज से भारत में तबाही होने की आशंका है तो सबसे पहले आपको स्पष्ट कर दें कि स्वास्थ्य मंत्रालय ने इन्हीं अफवाहों का खंडन करते हुए कहा है कि भारत में कोरोना अभी लोकल ट्रांसमिशन स्टेज जिसे कोरोना की दूसरी स्टेज कहते हैं फिलहाल देश में दूसरी स्टेज पर ही है। देश में कोरोना तीसरी स्टेज जिसे कम्युनिटी ट्रांसमिशन स्टेज कहते हैं उसमें नहीं पहुंचा है इसलिए हमें और अधिक सावधानी बरतनी चाहिए जिससे कि कोरोना की तीसरी स्टेज देश में न पहुंच सके और कोरोना की दूसरी स्टेज पर ही इसे पूरी तरह से रोक लिया जाए।

कोरोनावायरस: तब्लीगी मरकज में कोरोना वायरस के 24 पॉजिटिव मामले

अफवाहों ने कैसे बिगाड़ी स्थिति

कोरोना की तीसरी स्टेज को लेकर जिस तरह के भ्रम की स्थिति पैदा हो रही है उससे हमें बचने की जरूरत है। दिल्ली-नोएडा से जिस तरह भारी संख्या में मजदूरों के पलायन की स्थिति उत्पन्न हुई वो भी अफवाहों के कारण ही हुई। दरअसल 21 दिन के लॉक डाउन पर अफवाह फैला दी गई कि ये लॉक डाउन 21 दिन का नहीं बल्कि 3 महीने का होगा। अब दिहाड़ी पर निर्भर मजदूरों के आगे बड़ी समस्या खड़ी हो गई कि 3 महीने बेरोजगारी के साथ कैसे परिवार का पालन-पोषण होगा। इतना ही नहीं कोरोना की तीसरी स्टेज का भय भी लोगों में इस कदर भर दिया गया कि लोग अपने घर परिवार के पास जाने के लिए इतना विवश हो गए कि भूल गए लॉक डाउन का वो उल्लंघन कर रहे हैं। सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी स्वीकार किया कि पलायन अफवाहों के कारण शुरू हुआ।

जागरूक बनें, अफवाहों से बचें

कोरोना की तीसरी स्टेज को लेकर देश में भ्रम की स्थिति बनी हुई है। सोशल मीडिया पर तमाम ऐसे मैसेज फॉरवर्ड होते हैं जो कोरोना को लेकर डर उत्पन्न करते हैं। हालांकि इस तरह की अफवाहों पर नियंत्रण के लिए उत्तर प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ ने अफवाह फैलाने वालों पर कार्रवाई के आदेश दे दिए हैं लेकिन जब तक हम खुद जागगरूक नहीं होंगे तो सही और गलत का निर्णय नहीं ले पाएंगे। कोरोना एक घातक महामारी है लेकिन उससे भी ज्यादा घातक है कोरोना के संबंध में अल्प ज्ञान और अफवाह इसलिए हम आपको कोरोना की तीनों स्टेज के बारे में बता रहे हैं जिससे आप जागरूक हों और इसस तरह की अफवाहों पर विराम लगा सकें।

गुरुग्राम में सरकारी रेट पर होगी कोरोना की जांच, तीन प्राइवेट लैब तय

कोरोना वायरस की पहली स्टेज

कोरोना की पहली स्टेज में ये वायरस विदेश से यात्रा करके लौटे यात्रियों के शरीर में मौजूद होता है। इस स्टेज में कोरोना पर नियंत्रण पाना काफी आसान होता है क्योंकि ये कोरोना की पहली स्टेज है और ये संक्रमित व्यक्ति के शरीर तक ही सीमित रहता है इसलिए इसे काबू में करना आसान होता है।

दूसरी स्टेज-लोकल ट्रांसमिशन स्टेज

दूसरी स्टेज को लोकल ट्रांसमिशन स्टेज भी कहते हैं। देश में इस वक्त कोरोना की दूसरी स्टेज ही चल रही है। लोकल ट्रांसमिशन स्टेज में कोरोना से संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने वाले हर शख्स में ये वायरस बड़ी तेजी से फैलने लगता है। ऐसे में संक्रमित व्यक्ति पर खास ध्यान देकर अन्य लोगों को इस वायरस से बचाया जा सकता है। संक्रमित व्यक्ति की पहचान कर पाना थोड़ा मुश्किल है लेकिन कोरोना वायरस को अन्य लोगों में फैलने से रोक पाना असंभव नहीं होता। लोकल ट्रांसमिशन स्टेज के कारण ही देश में लॉक डाउन का सख्ती से पालन करने का आदेश दिया गया है जिससे सोशल डिस्टेंसिंग के ज़रिए इस वायरस को सीमित कर दिया जाए और उस पर नियंत्रण पा सकें।

कोरोना के डर से जर्मनी भागे थाईलैंड के राजा, जनता ने जताया गुस्सा

तीसरी स्टेजकम्युनिटी ट्रांसमिशन स्टेज

अब बात करेंगे कोरोना की तीसरी स्टेज की जिसे लेकर काफी भ्रम की स्थिति है और अफवाहों के चलते लोग परेशान हो रहे हैं। कोरोना की तीसरी स्टेज को कम्युनिटी ट्रांसमिशन स्टेज कहते हैं। कोरोना की तीसरी स्टेज फिलहाल भारत में नहीं है और अगर हम सभी सहयोग करेंगे तो शायद दूसरी स्टेज पर ही कोरोना को मात दे पाने में सफल भी होंगे। कोरोना की तीसरी स्टेज यानि कम्युनिटी ट्रांसमिशन स्टेज से इटली और स्पेन जैसे देश प्रभावित हैं। इस स्टेज में कोरोना वायरस के संक्रमण का कारण पता लगा पाना बेहद मुश्किल होता है क्योंकि तीसरी स्टेज में ये वायरस किसी भी शख्स को संक्रमित कर सकता है जिसका कोरोना संक्रमित व्यक्ति से संपर्क भी न हुआ हो और न ही वो विदेश से आया हो। ऐसे में हालात बेकाबू होने लगते हैं।

कोरोना वायरस की चौथी स्टेज जिसने चीन में मचाई तबाही

अब बात करेंगे सबसे खतरनाक स्टेज की यानि कोरोना की चौथी स्टेज। यही वो स्टेज है जिससे प्रभावित होकर चीन में तबाही मच गई थी। इस स्टेज में आने के बाद कोई समाधान नहीं बचता और इंसान हालात के आगे बेबस हो जाता है।

AB STAR NEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते हैं