शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी ने की तब्लीगी जमात को लेकर ये मांग

0
48

शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी ने फिर से तब्लीगी जमात पर निशाना साधा।

कोरोना के कहर के बीच सोमवार को Shia Waqf Board (शिया वक्फ बोर्ड) के अध्यक्ष Waseem Rizvi (वसीम रिजवी) ने फिर से Tablighi Jamaat (तब्लीगी जमात) पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि तबलीगी जमात के Corona Positive (कोरोना पॉजिटिव) लोगों के लिए, हर जिले की जेलों में दो बैरकों को विशेष अस्पतालों में परिवर्तित किया जाना चाहिए। क्योंकि जमात के लोग अस्पतालों में गाली दे रहे हैं। उनकी वजह से डॉक्टरों, नर्सों और अन्य कोरोना पॉजिटिव मरीजों को समस्या हो रही है।

राहुल गांधी ने दिया एकता का मंत्र, कहा- कोरोना के खिलाफ एक होना जरूरी

इस मामले पर, शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष Waseem Rizvi (वसीम रिजवी) ने कहा कि Corona Positive (कोरोना पॉजिटिव) तब्लीगी जमात के लोगों को जेलों में एक विशेष अस्पताल बनाकर वहां इलाज कराना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा है कि अगर ऐसे लोग ठीक हो जाते हैं, तो उन्हें कोरोना फैलाने की साजिश के तहत जेलों में रखकर मुकदमा चलाया जाना चाहिए। यदि वे मर जाते हैं, तो उनके शव को जला दिया जाए और उनकी राख को परिवार को सौंप दिया जाए।

जमात के मामले न होते तो रुक चुका होता संक्रमण -योगी आदित्यनाथ

शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष Waseem Rizvi (वसीम रिजवी) ने भारत सरकार के स्वास्थ्य विभाग को एक पत्र लिखा है, जिसमें अनुरोध किया गया है कि कोरोना से मरने वालों का अंतिम संस्कार केवल बड़े डॉक्टरों की सलाह के बावजूद किया जाना चाहिए, भले ही वे कोई भी धर्म के हों। अगर कब्रिस्तानों में दफनाने के लिए धार्मिक अनुष्ठानों को अपनाया जाता है, तो इससे कोरोना फैलने का खतरा बढ़ जाएगा, और कब्रिस्तानों को भी प्रदूषित किया जाएगा।

प्रियंका गांधी ने कोरोना को लेकर लोगों से की अपील, सोशल मीडिया पर कही ये बात

बता दें कि Shia Waqf Board (शिया वक्फ बोर्ड) के चेयरमैन Waseem Rizvi (वसीम रिजवी) ने पिछले गुरुवार को कहा कि तब्लीगी जमात के मुखिया Muhammad Saad (मोहम्मद साद) पर हत्या कराने करने का आरोप करने की मांग की थी। उन्होंने कहा की अगर जमात के लोगों की वजह से कोरोना का संक्रमण फैलता है या किसी की मत्यु होती है तो Nizamuddin (निजामुद्दीन) मरकज के मौलाना मो. साद के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर उन्हें मृत्युदंड से कम सजा ना दी जाए।

AB STAR NEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है