अलवर में वेतन मांगने पर शराब की दुकान के सेल्समैन को जिंदा जलाया,राजस्थान की सियासत गरमाई

0
193
अलवर

अलवर : राजस्थान में अपराध रुकने का नाम नहीं ले रहा है। कुछ दिन पहले राजस्थान के करौली जिले में एक मंदिर के पुजारी को जमीन के विवाद में जिंदा जलाने के बाद अब अलवर जिले के कूमपुर गांव में शराब की दुकान के सेल्समैन को जिंदा जलाने का मामला सामने आया है। एक दर्दनाक घटना में, राजस्थान के अलवर जिले में एक शराब ठेकेदार ने सेल्समैन के रूप में काम करने वाले एक दलित युवक को कथित रूप से पांच महीने का अपना बकाया वेतन मांगने पर उसे आगे के हवाले कर दिया। पुलिस ने कहा कि कमल किशोर का अधजला शव बाद में शराब की दुकान में डीप फ्रीजर में मिला।

सेल्समैन को जिंदा जलाया

कमल के भाई रूप सिंह ने खैरथल पुलिस स्टेशन में प्राथमिकी दर्ज कराई, जिसमें उसने उल्लेख किया कि शराब ठेकेदार सुभाष और राकेश यादव से बकाया वेतन मांगने पर कमल किशोर को जिंदा जला दिया गया। दोनों फरार हैं।भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पुनिया ने सोमवार को ट्वीट किया, “ऐसा लगता है कि हम अफ्रीका में सोमालिया में रह रहे हैं, जहां कोई कानून-व्यवस्था नहीं है। क्या सीएम अशोक गहलोत को अपने पद पर रहने का कोई हक है।” उन्होंने एक हैशटैग क्राइमकैपिटलराजस्थान भी लगाया।

पुलिस के अनुसार, अलवर के झड़का गांव के रहने वाले मृतक कमल किशोर (22) की शनिवार की रात कमपुर गांव में जलने से मौत हो गई।पुलिस ने कहा कि एक फोरेंसिक टीम ने घटनास्थल का दौरा किया। पुलिस ने कहा, “मामले में और सबूत मिलने के बाद ही स्थिति स्पष्ट होगी।” रूप सिंह ने आरोप लगाया कि कमल किशोर का वेतन पिछले पांच महीनों से बकाया था। वह घर लौट आया, लेकिन शनिवार शाम को, ठेकेदार और उनके साथी उसके घर पहुंचे और कमल किशोर को अपने साथ ले गए।

रूप सिंह के मुताबिक, रात में कमल किशोर के अंदर होने के बावजूद शराब की दुकान में पेट्रोल डालकर आग लगा दी गई।रविवार की सुबह, जब दुकान के शटर को तोड़ा गया तो कमल किशोर फ्रीजर के अंदर मृत पाया गया। पुलिस शव को ऑटोप्सी के लिए खैरथल सैटेलाइट अस्पताल में ले गई। अपराधियों की गिरफ्तारी और न्यायायिक जांच की मांग कर रहे परिजनों ने रविवार शाम तक पोस्टमार्टम नहीं होने दिया था। दिनभर की मशक्कत, समझाने-बुझाने के बाद आखिरकार पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया।

वहीं गहलोत सरकार के मंत्री ने दलित को जलाए जाने पर बेतूका बयान दिया है और कहा कि अपराध सिर्फ राजस्थान में नहीं देश में बढ रहे हैं। बीजेपी ने आरोप लगाया कि राजस्थान में दलित सुरक्षित नही। बता दें जिस शराब ठेकेदार पर जलाने का आरोप उसकी माँ सरपंच है। पीड़ित परिवार का कहना है कि उसे पुलिस जांच पर भरोसा नहीं है और न्यायिक जांच की मांग कर रहे हैं।