आज से बदल गए क्रेडिट-डेबिट कार्ड से जुड़े नियम

16 मार्च से बदल गए क्रेडिट-डेबिट कार्ड से जुड़े नियम, जानें क्या ​​हैं फायदे-नुकसान

आज यानी 16 मार्च से क्रेडिट तथा डेबिट कार्ड से जुड़े नियम बदल गए हैं। ये बदलाव कार्ड को और सुरक्षित तथा सुविधाजनक बनाने के लिए किया गया है। हालांकि इन बदलावों से आपको कुछ फायदे हैं, तो कुछ नुकसान भी। तो चलिए जानते हैं क्या है वो बदलाव बता दें, RBI (भारतीय रिजर्व बैंक) ने डेबिट तथा क्रेडिट कार्ड से होने वाले ट्रांजैक्शंस को पहले से आसान अधिक सुरक्षित बनाने और दोनों कार्ड को इश्यू/रीइश्यू करने के लिए `नए नियम जारी किए हैं। 15 जनवरी को इसके मद्देनजर भारतीय रिजर्व बैंक की ओर से नोटिफिकेशन भी जारी किया गया था।  हालांकि ये नए नियम प्रीपेड गिफ्ट कार्ड्स और मेट्रो कार्ड पर लागू नहीं होंगे।

सिर्फ डोमेस्टिक ट्रांजैक्शन होगा

बैंकों से आरबीआई ने कहा है कि वे डेबिट-क्रेडिट कार्ड जारी/फिर से जारी करते समय उन्हें केवल भारत में एटीएम और प्वाइंट ऑफ सेल (पीओएस) टर्मिनल्स पर ट्रांजैक्शंस के लिए सक्रिय करें। नए नियम के मुताबिक, अब ग्राहक सिर्फ एटीएम और पीओएस टर्मिनल पर डेबिट और क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल कर सकेंगे।

HDFC का ये ऐप हो रहा है बंद, जल्दी करें वरना…

विदेश में और ऑनलाइन ट्रांजैक्शंस के लिए अलग लेनी होगी सुविधा

जो ग्राहक ऑनलाइन ट्रांजैक्शंस, कॉन्टैक्टलेस ट्रांजैक्शन या इंटरनेशनल ट्रांजैक्शन करना चाहते हैं तो उसे इन सेवाओं को चालू कराना होगा। पुराने नियमों के मुताबिक, ये सेवाएं कार्ड के साथ खुद ब खुद मिल जाती है। लेकिन अब ये सेवाएं ग्राहक की आग्रह पर ही शुरू होंगी। इसका मतलब ये है कि अगर आपको विदेश में या ऑनलाइन या कॉन्टैक्टलेस ट्रांजैक्शन की सुविधा चाहिए तो आपको ये सेवा अलग से लेनी होगी।

आज से बदल गए क्रेडिट-डेबिट कार्ड से जुड़े नियम

सभी कार्ड पर लागू होगा नियम

जिन लोगों के पास अभी कार्ड मौजूद हैं, वो अपने रिस्क पर ये तय कर सकेंगे कि वे अपने डोमेस्टिक और इंटरनेशनल कार्ड के ट्रांजैक्शन को डिसेबल करना चाहते हैं या नहीं। यानी ग्राहक चाहें तो अपने डेबिट या क्रेडिट कार्ड पर इन सुविधाओं को डिसेबल भी कर सकते हैं।

बंद ​हो जाएगी यह सुविधा

अगर आप डेबिट-क्रेडिट कार्ड ग्राहक हैं और आपने अभी तक अपने कार्ड से किसी भी प्रकार का ऑनलाइन ट्रांजेक्शन, कॉन्टैक्टलेस ट्रांजैक्शन या इंटरनेशनल ट्रांजैक्शन नहीं किया है तो कार्ड पर ये सेवाएं 16 मार्च से खुद-ब-खुद बंद हो जाएंगी। आसान शब्दों में समझा जाए तो इस सुविधा को जारी रखने के लिए जरूरी है कि 16 मार्च से पहले कम से कम एक बार हर डेबिट और क्रेडिट कार्ड से ऑनलाइन और कॉन्टैक्टलेस ट्रांजैक्शन किया गया हो। सभी बैंकों से रिजर्व बैंक ने कहा है कि वे मोबाइल एप्लीकेशन, लिमिट मोडिफाई करने के लिए नेट बैंकिंग विकल्प और इनेबल और डिसेबल सेवा सप्ताह के सातों दिन चौबीसों घंटे लोगों को उपलब्ध करवाएं।

मोबाइल चोरी होने पर करें ये जरूरी काम, ऑनलाइन करें शिकायत दर्ज

कार्ड ऑनऑफ करने की मिलेगी सुविधा

इस बदलावों के बाद अब यूजर्स किसी भी समय अपने क्रेडिट कार्ड को ऑन-ऑफ कर सकते हैं या फिर अपनी ट्रांजैक्शन लिमिट को बदल सकते हैं। इसके लिए लोग मोबाइल ऐप या इंटरनेट बैंकिंग या एटीएम या आईवीआर की भी मदद ले सकते हैं। बैंकों को कार्डधारक को पीओएस/एटीएम/ कॉन्टैक्टलेस ट्रांजैक्शंस/ ऑनलाइन ट्रांजैक्शंस के लिए ट्रांजैक्शंस लिमिट में डोमेस्टिक तथा इंटरनेशनल दोनों के लिए ही बदलाव करने की सुविधा देनी होगी। इसके साथ ही ग्राहको को बैंकों को कार्ड को स्विच ऑन और स्विच ऑफ करने की भी सुविधा देनी होगी।

सुरक्षा के उपाय

बैंक एसएमएस/ई-मेल के जरिए ग्राहक को अलर्ट करेगा और सूचना भेजेगा जब ग्राहक अगर अपने कार्ड के स्टेटस में कोई बदलाव करते हैं या कोई अन्य करने की कोशिश करता है।

AB STAR NEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते हैं