कोरोना के बीच राहुल गांधी की आर्थिक सुनामी, पूछे ये सवाल

0
266

संसद भवन के प्रांगण में मंगलवार को देश की मौजूदा आर्थिक हालात को देखते हुए कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला। राहुल ने कहा कि आज देश के कई बड़े बैंकों के खाते एनपीए हो गए हैं और बैंकों के डिफाल्टर फरार हैं।   

नई दिल्ली: संसद में बजट सत्र के दूसरे चरण के दौरान कांग्रेस नेता राहुल गांधी द्वारा आर्थिक मसलों पर पूछे गए सवालों पर राजनीतिक घमासान मचा हुआ है। राहुल के सवाल के बाद देश की दोनों बड़ी राजनीतिक पार्टियां कांग्रेस,बीजेपी आमने-सामने हैं।

संसद भवन के प्रांगण में मंगलवार को देश की मौजूदा आर्थिक हालात को देखते हुए कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला। राहुल ने कहा कि आज देश के कई बड़े बैंकों के खाते एनपीए हो गए हैं और बैंकों के डिफाल्टर फरार हैं।   

ऐसे में जब सरकार से सवाल पूछो तो सवाल पूछने नहीं दिया जाता है। राहुल गांधी ने देश की आर्थिक स्थिति पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि  ‘देश में आर्थिक सुनामी आने वाली है। लेकिन संसद में सरकार का वनवे ट्रैफिक लगा हुआ है।

जाहिर है कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने संसद में बीते सोमवार को कहा था कि ‘बैंकों को लूटनेवाले पर कार्रवाई हो और पीएम मोदी 50 डिफॉल्टदर्स के नाम सार्वजनिक करें। साथ ही राहुल ने कहा था कि प्रधानमंत्री चोरी करने वालों को स्वदेश लाने की बात करते हैं लेकिन हकीकत कुछ और हो जाती है।

राहुल गांधी के इस सवाल पर बोलते हुए केंद्रीय राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि 2010 से 2014 तक ग्रॉस एडवांस दिए गए थे। हमारी सरकार ने इसे कम किया है। साथ ही अनुराग ठाकुर ने कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए कहा कि ये अपना पाप दूसरों के सिर पर डालना चाहते हैं। हमारी सरकार ने ’50 डिफॉल्टर्स की लिस्ट वेबसाइट पर डाली हुई है, आप वहां देख सकते हैं।

इसके अलावा अनुराग ठाकुर ने प्रिंयका गांधी की पेंटिंग को आड़े हाथ लेते हुए कहा, ‘कुछ माननीय सदस्य कह रहे हैं कि मैं पेटिंग की बात करूं। मैं राजनीति नहीं करना चाहता। पेटिंग किसने बेची और किसके खाते में धन गया। इसपर मै राजनीति करना मुनासिफ नहीं समझता। इतना सुन कांग्रेस के तमाम सांसद सदन में हंगामा करने लगे।

वहीं अगर बात येस बैंक के डिफाल्टरों की करें तो ईडी ने अनील अंबानी से लेकर सुभाष चंद्रा समेत कई लोगों नोटिस भेजा है। ये वो लोग हैं जो यस बैंक से तकरीबन 36 हजार करोड़ से ज्यादा का लोन तो लिया लेकिन बैंक को चुकाया नहीं।

संसद में जिस तरह से राहुल गांधी मंदी को लेकर मोदी सरकार को घेर रहे हैं, उससे यहीं कहा जा सकता है कि वे देश मुख्य विपक्षी नेता होने के नाते ये मानते हैं कि देश में सिर्फ आर्थिक स्थिति ही खराब है। क्योंकि पिछले कुछ महीनों में अगर पीछे मुड़ कर देखे तो राहुल गांधी ने किसी और मसले पर नहीं बोला है।

AB STAR NEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते हैं