प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राजनैतिक दलों से मांगा सुझाव

कोरोना की जंग लड़ने के लिए 8 अप्रैल को बनेगी रणनीति

कहते हैं राष्ट्रधर्म से बड़ा कोई धर्म नहीं होता और देश सेवा से बड़ा कोई दायित्व नहीं होता । भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मनोदशा का अंदाजा लगाना भी इस वक्त मुमकिन नहीं है, जब उनके देशवासी कोरोना महामारी की जंग लड़ रहे हैं और प्रतिदिन कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्या और संक्रमण के मामलों में इज़ाफा देखने को मिल रहा है। जिसके कंधों पर पूरा देश चलाने की जिम्मेदारी हो वो अपने ही देशवासियों को कोरोना महामारी से संघर्ष करते, दम तोड़ते देख रहा है, इससे भी ज्यादा पीड़ादायक है कोरोना के संक्रमण का इलाज न मिल पाना। देश पर जब संकट आता है तो आपसी द्वेष भुलाकर सबको एक साथ मिलकर जंग लड़नी होती है। इसी भावना का परिचय दिया है पीएम नरेंद्र मोदी ने। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी राजनैतिक पार्टियों के दिग्गज़ों को फोन किया और कोरोना पर उनसे चर्चा की।

मास्क को लेकर पीएम मोदी ने कही ये बात, जारी की एडवाइजरी

पीएम ने किया पूर्व राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री समेत अन्य विपक्षी दलों के नेताओं को फोन

कोरोना संकट से जूझ रहे देश को इस संकट से निकालने के लिए अब सुझाव और सलाह पर विचार किया जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और प्रतिभा पाटिल को फोन किया और कोरोना पर उनसे चर्चा की। इसके अलावा पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह, एचडी देवगौड़ा, कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव, अखिलेश यादव, बीजजद चीफ नवीन पटनायक, प.बंगाल की सीएम ममता बनर्जी, अकाली दल के प्रकाश सिंह बादल, दक्षिण भारत के दिग्गज़ ने नेता चंद्रशेखर राव, एमके स्टॉलिन को फोन कर उनसे कोरोना संकट पर चर्चा की और उनसे सुझाव मांगा।

सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास

कोरोना महामारी के संकट से जूझ रहे देश में इस वक्त सबके साथ, सबके विकास और सबके विश्वास की जरूरत है। ये बीजेपी का स्लोगन मात्र नहीं है। पीएम मोदी के विचारों, उनके जीवन के सिद्धांतों की झलक इस स्लोगन में झलकती है। यही कारण है कि जब देश पर संकट आया है तो पीएम मोदी ने पूर्व राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री से लेकर विपक्षी दल के तमाम नेताओं को फोन किया और उनसे कोरोना महामारी के संबंध में चर्चा की और सुझाव मांगा। इस वक्त पूरे देश को एकजुट होकर कोरोना महामारी की जंग को जीतना है जिसके लिए पीएम मोदी हरसंभव प्रयास कर रहे हैं।

पीएम मोदी की अपील पर पी. चिदंबरम का पलटवार, कहा- कारोबारी वर्ग हुए निराश

कोरोना से निपटने के लिए सर्वदलीय बैठक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना महामारी से निपटने के लिए 8 अप्रैल को सर्वदलीय बैठक बुलाई है जिसमें कोरोना को मात देने के लिए रणनीति बनाई जाएगी। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विभिन्न राजनैतिक दलों के साथ संवाद करेंगे। संसदीय कार्यमंत्री प्रह्लाद जोशी ने जानकारी देते हुए बताया कि पीएम मोदी 8 अप्रैल को सुबह 11 बजे सभी राजनैतिक दलों के नेताओं के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए जुड़ेगे और उनसे कोरोना महामारी के संबंध में चर्चा की जाएगी।

कोरोना से लड़ने के लिए रणनीति की तैयारी

8 अप्रैल को पीएम मोदी सभी राजनैतिक दलों के नेताओं के साथ कोरोना की जंग को कैसे जीता जाए, किस तरह भारत को कोरोना से सुरक्षित किया जाए, ऐसे तमाम सवालों पर चर्चा करेंगे और एक रणनीति बनाएंगे जिसमें सभी दलों की सहमति हो। फिलहाल देश में लगातार कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ते जा रहे हैं, लॉकडाउन को खत्म करने की तारीख भी नजदीक आ रही है, देश की अर्थव्यवस्था पर भी बुरा असर पड़ रहा है। कैसे कोरोना संक्रमण के संकट से देश को बचाया जाए इस पर सभी राजनैतिक दलों के नेताओं के सुझाव के आधार पर 8 अप्रैल को सर्वदलीय बैठक में देशहित के लिए रणनीति बनाईजाएगी।

AB STAR NEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है