अब नहीं कर पाएंगे व्हाट्सएप पर मैसेज फॉरवर्ड

0
49

व्हाट्सएप ने तय की मैसेज फॉरवर्ड सीमा

दुनिया में एक तरफ कोरोना महामारी का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है, तो वहीं दूसरी तरफ सोशल मीडिया पर तमाम फेक जानकारियां भी तेजी से वायरल कर दी जाती हैं। ऐसे में कोरोना वायरस की दहशत के बीच गलत जानकारी के फॉरवर्ड होने से लोगों के बीच भ्रम की स्थिति उत्पन्न होती है और कई बार ये गलत जानकारी जान पर भी भारी पड़ जाती है। इन्हीं समस्याओं के निवारण के लिए व्हाट्सएप ने बड़ा फैसला लिया है।

सोनिया गांधी ने पीएम मोदी को पत्र लिखकर दिए ये 5 सुझाव

व्हाट्सएप ने लिया बड़ा फैसला

सोशल मीडिया के एप में सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाला एप व्हाट्सएप है जिसमें लोगों के कई ग्रुप्स होते हैं जिनके माध्यम से कोई भी संदेश एक बार में बड़ी संख्या में लोगों तक पहुंचाया जा सकता है। हालांकि ये एक अच्छी सुविधा है लेकिन अगर कोई जानकारी पुख्ता नहीं है और वो जानकारी अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचाने के कारण लोगों के बीच अफवाह का कारण बन जाए तो मुसीबत में डाल सकती है। जैसा कि पूरी दुनिया कोरोना के संक्रमण के बढ़ते मामलों से दहशत में हैं और दूसरी तरफ लॉकडाउन के कारण इन सोशल मीडिया एप का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल भी किया जा रहा है। अफवाहों से बचने के लिए व्हाट्सएप ने बड़ा कदम उठाया है और मैसेज को फॉरवर्ड करने की सीमा निर्धारित कर दी है। अभी तक आपको एक मैसेज को 5 लोगों तक फॉरवर्ड करने की सुविधा दी गई थी लेकिन अफवाहों के बढ़ते मामलों के कारण अब व्हाट्सएप पर आप कोई भी संदेश एकबार में एक ही व्यक्ति को फॉरवर्ड कर सकते हैं।

मैसेज फॉरवर्ड पर पाबंदी का कारण

कोरोना से जुड़ी खबरों के संबंध में लोग ज्यादा से ज्यादा जानने की कोशिश करते हैं लेकिन सोशल मीडिया पर फर्जी खबरों की भरमार है। ये फर्जी खबरें ट्विटर, फेसबुक और गूगल के लिए बड़ी चुनौती हैं। इन्हीं अफवाहों और फर्जी खबरों से लोगों को बचाने के लिए फेसबुक के स्वामित्व वाली कंपनी व्हाट्सएप ने मैसेज फॉरवर्ड करने की सीमा तय कर दी है। आपको बता दें इससे पहले फेसबुक पर भी फर्जी खबरों और अफवाहों से बचने के लिए ये फैसला लिया जा चुका है। इसके अलावा गूगलल भी फेक न्यूज़ को फ्लैग कर रहा है। ट्विटर भी अफवाहों से बचने के लिए फिल्टर का इस्तेमाल कर रहा है।

इक्वाडोर में दिखा Coronavirus का आतंक, सड़कों पर पड़ी लाशों को नहीं मिल रहे उठाने वाले

अफवाहों पर लगेगी लगाम

पूरी दुनिया में व्हाट्सएप के करीब दो अरब से ज्यादा यूजर्स हैं तो वहीं भारत में 40 करोड़ से अधिक लोग व्हाट्सएप का इस्तेमाल करते हैं। व्हाट्सएप के इस फैसले की सराहना की जा रही है क्योंकि अफवाह और फर्जी खबरों से ज्यादा घातक कुछ नहीं हो सकता। व्हाट्सएप के इस फैसले से सोशल मीडिया पर अफवाहों पर अब अंकुश लग सकेगा। गौरतलब है कि हाल ही में विश्व स्वास्थ्य संगठन के नाम पर फर्जी खबर बड़े ही तेजी से व्हाट्सएप पर सर्कुलेट हुई थी जिसमें लॉकडाउन को लेकर कुछ स्टेज दी गई थी जिसके अनुसार 18 अप्रैलल से फिर से दूसरे चरण का लॉकडाउन होगा। इस तरह के मैसेज ने सभी लोगों के बीच कौतूहल पैदा कर दिया। जहां एक तरफ लोग पलायन कर रहे हैं और पलायन के कारण लॉकडाउन का किस कदर उल्लंघन हुआ था हम सब उससे वाकिफ हैं, तो वहीं दूसरी तरफ इस तरह की अफवाह से लोग अपने घर पहुंचने के लिए फिर भागना शुरू कर देते और लॉकडाउन की धज्जियां उड़ाते। हालांकि जल्द ही इस खबर को फर्जी करार दिया गया लेकिन एक गलत सूचना कितनी बड़ी संख्या में लोगों को प्रभावित कर सकती है, इसके आप अंदाजा भी नहीं लगा सकते। खबरों के फर्जी होने और पुख्ता होने की पुष्टि तक न जाने कितने लोग फर्जी खबरों को शिकार हो चुके होते हैं। इन्हीं बातों को ध्यान में रखते हुए व्हाट्सएप ने बड़ा फैसला लिया है जिससे मैसेज फॉरवर्ड की सीमा तय कर कोई भी जानकारी को आग की तरह फैलने से रोका जा सके।

AB STAR NEWS के  ऐप को डॉउनलोउड  कर सकते. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते हैं