कर्नाटक में पास महाराष्ट्र फेल, क्या मध्यप्रदेश में सक्सेस होगा ‘ऑपरेशन लोटस’

0
167

अब नंबर है मध्यप्रदेश का जहां बीजेपी लगातार कमलनाथ की सरकार के पीछे पड़ी हुई और आए दिन यहां ऑपरेशन लोटस को अंजाम देने में लगी हुई है।

नई दिल्ली: कुमार स्वामी की सरकार गिरने के बाद कर्नाटक की कमान येरियुरप्पा के हाथों में चली गई…जब कर्नाटक में गठबंधन की सरकार बनी थी तो हमने देखा था कि किस तरह से सियासी उथल-पुथल मची थी। अन्तोगत्वा बीजेपी यहां अपने मंसूबे में कामयाब रही थी। तमाम विपक्षी विधायकों के इस्तीफें देने के बाद कर्नाटक में बीजेपी का मिशन ऑपरेशन लोटस कामयाब रहा था और येरियुरप्पा आखिरकार मुख्यमंत्री बने थे।

बीजेपी ने कर्नाटक में तो कमाल कर दिया था लेकिन महाराष्ट्र की सतरंजी बिसात पर वो असफल रही थी। यहां भारतीय जनता पार्टी ने शिवसेना के साथ मिलकर विधानसभा का चुनाव लड़ा था लेकिन पेंच जब मुख्यमंत्री की कुर्सी को लेकर  फंसा  तो मामला बिगड़ गया। जिसके बाद महाराष्ट्र से लेकर दिल्ली तक खूब सियासी दंगल देखने मिले। करीब दो महीने के इस सियासी मैराथन के बाद महाराष्ट्र में जब शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने एनसपी के साथ जाने का फैसला किया तो बीजेपी अपने असल रुप में आ गई।

रातोंरात अजीत पवार और देवेंद्र फडणवीस के बीच सीटों का समझौता हुआ और दोनों नेताओं ने एक साथ महाराष्ट्र के राज्यपाल बीएस कोश्यारी से मुलाकात कर मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री पद की शपथ ली।  जिसके बाद पूरा देश अचंभित रह गया कि आखिर ये महाराष्ट्र में क्या हो गया।

इन सब के बीच एनसीपी प्रमुख शरद पवार फुल एक्शन में आए और अपने तमाम विधायकों के साथ महाराष्ट्र विधानसभा में फ्लोर टेस्ट दिया और पास हुए। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे बने। लिहाजा यहां बीजेपी की दाल नहीं गली।

अब नंबर है मध्यप्रदेश का जहां बीजेपी लगातार कमलनाथ की सरकार के पीछे पड़ी हुई और आए दिन यहां ऑपरेशन लोटस को अंजाम देने में लगी हुई है। लेकिन क्या बीजेपी यहां पास हो  पाएगी ये एक बड़ा सवाल तब बना हुआ है, जब मध्यप्रदेश में राजनीतिक नजरिए से सबकुछ ठीक नहीं है।