लॉकडाउन के दौरान ऑनलाइन बिकेगी शराब!

केरल में 9 मौत से सरकार की बढ़ी चिंता

कोरोना के चलते लॉकडाउन की घोषणा के बाद केरल में अब तक 9 लोगों की मौत हो चुकी है। क्या ये मौत कोरोना के संक्रमण से हुई या फिर कोई और कारण? तो चलिए आपको बता दें कि इस मौत का जिम्मेदार कोरोना नहीं बल्कि लॉक डाउन के कारण लॉक हुई शराब के कारण हुई है। शराब की लत इंसान को किस कदर ले डूबती है इसी की बानगी केरल में देखने को मिली जहां शराब न मिलने के कारण 9 मौतें हो चुकी हैं। इन लोगों ने शराब न मिलने के कारण कैसे मौत को गले लगाया वो भी आपको बताते हैं।

कोरोना वायरस का खात्मा करने के लिए इस कंपनी ने बनाया टीका

शराब की लत कोरोना पर भारी

जानकारी के मुताबिक 7 लोगों ने लॉकडाउन के चलते शराब न मिलने के कारण आत्महत्या कर ली, एक व्यक्ति को शराब नहीं मिलने से उसकी हालत बिगड़ने लगी और उसे हार्ट अटैक आ गया जिससे उसकी मौतत हो गई। तो वहीं एक व्यक्ति ने शराब न मिलने के कारण नशे की लत ने उसे आफ्टर शेव लोशन पीने पर मजबूर कर दिया जिससे उसकी मौत हो गई।

केरल में कोरोना से एक मौत, शराब से 9 मौत

ये बड़ी ही चौंकाने वाली बात है कि जिस कोरोना के कहर से बचाने के लिए लॉक डाउन किया गया है। वहां इस लॉक डाउन के साइड इफेक्ट के रूप में ये 9 मौतें सामने आई हैं। जिसमें त्रिसूर जिले के कोडंगलूर के 32 साल के व्यक्ति ने शराब न मिलने के कारण विचलित होकर जान दे दी। 34 साल के एक शख्स ने आफ्टर शेव लोशन पीकर जान दे दी। इसी तरह 38 साल के एक दिहाड़ी मजदूर ने भी शराब न मिलने के कारण पेड़ से फांसी लगाकर जान दे दी। पलक्कड़ में जेल में बंद कैदीटाइजर पी लिया जिससे उसकी मौत हो गई। इसी तरह एक व्यक्ति शराब न मिलने से परेशान होकर बिल्डिंग से कूद गया। इस तरह के तमाम मामले केरल में सामने आए हैं जहां शराब न मिलने के कारण लोग आत्महत्या कर रहे हैं। लॉक डाउन के कारण शराब की दुकानें बंद हैं और ऐसे में वो लोग जो शराब के बिना नहीं रह सकते उनके लिए ये लॉक डाउन काल के समान बन गया। शराब न मिलने के कारण इनकी हालत दिन-प्रतिदिन बिगड़ती गई और फिर शराब की कमी ने इनकी जीवन-लीला ही समाप्त कर दी।

भारत सरकार ने कोरोना को मात देने के लिए लॉन्च किया,…

कौन है इन मौतों का जिम्मेदार ?

शराब न मिलने के कारण केरल में जो मौतें हुई हैं उसका जिम्मेदार किसी को भी नहीं ठहरा सकते क्योंकि लॉक डाउन जानलेवा कोरोना महामारी से बचाव के लिए किया गया और लॉक डाउन के दौरान एक इंसान को जीवित रखने के लिए मूलभूत आवश्यकताएं रोटी, कपड़ा, मकान के अलावा दवाई और स्वास्थ्य सेवाओं को समझा गया। इन्हीं आवश्यकताओं को समझते हुए सरकार ने लॉक डाउन के दौरान इन आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए तमाम प्रयास भी किए लेकिन सरकार भी इससे अनजान थी कि शराब किसी व्यक्ति के जीने का कारण हो सकती है। नशा किसी व्यक्ति पर इतना हावी हो सकता है।

ऑनलाइन शराब बेचने पर विचार

शराब ने मिलने के कारण होने वाली मौत की सूचना को गंभीरता से लेते हुए केरल सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। सीएम पी. विजयन ने आदेश दिए हैं कि डॉक्टर के प्रिस्क्रिप्शन पर शराब उपलब्ध कराई जा सकती है। इसके साथ ही शराब की इस लत को छुड़ाने के लिए सरकार ने एक और आदेश दिया है जिसमें सरकार ने आबकारी विभाग को शराब की लत छुड़ाने के लिए सरकारी अस्पतालों में भर्ती मरीजों का मुफ्त इलाज कराने को कहा है। इसके साथ ही लॉक डाउन का पालन करते हुए हालांकि शरराब की दुकानों को खोलने का आदेश तो नहीं दिया जा सकता है लेकिन जिस तरह के मामले सामने आए हैं उसे देखते हुए राज्य सरकार ऑनलाइन शराब बेचने पर भी विचार कर रही है।

AB STAR NEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते हैं