भारत अन्नपूर्णा का देश, हर दिन बनता है 2 लाख से ज्यादा लोगों के लिए खाना..

0
32

कोरोना के कारण देशभर में लोगों का रोजगार छूट गया है। तो सरकार कर रही है, जनता की मदद। हर रोज 2 लाख लोगों तक पहुचा रही है खाना

देश में लॉकडाउन के कारण सरकार ने जनता से जहां है वहीं रहने की अपिल की है। साथ ही जनता के सारी जरूरी चीजें उन तक पहुचाने की बात की हैं। भारत सरकार ने देशभर में 14 अप्रैल तक 21 दिन का लॉकडाउन लागू किया हुआ है। इस दौरान काम ना होने की वजह से कई बार दिहाड़ी मजदूरों और गरीब लोगों के सामने खाने जैसी समस्या है। इसको लेकर दिल्ली के हर इलाके में भूखे और जरुरतमंद को खाना मिल सके, इसके लिए ‘इस्कॉन फूड फॉर लाइफ’ की तरफ से हर रोज 2 लाख से ज्यादा लोगों का खाना बनाया जाता है और जरूरतमंद को खिलाया जाता है।

कोरोना से जीत रहा है, भारत…..

आपको बता दें कि इस्कॉन फूड फॉर लाइफ का किचन भारत का सबसे बड़ा किचन है। जहां हर रोज 2 लाख से ज्यादा लोगों के लिए खाना बनाया जा रहा हैं। इस का खर्च राजनीति से दूर रख के केंद्र से लेकर दिल्ली सरकार उठाती है मदद करती हैं। इस इस्कॉन के किचन में एमसीडी, दिल्ली सरकार, दिल्ली पुलिस, सिविल डिफेंस और इस्कॉन के कुल 1 हजार लोग मिलकर साथ में काम कर रहे हैं। ताकि कोई व्यक्ति भूखा न रहें। सबको खाना मिले।

तो वहीं बता दें कि इस किचन में खाना बनाने में एंटी कोरोना तत्व का प्रयोग किया जा रहा हैं। ये एंटी कोरोना तत्व-

  • जावित्री
  • लौंग
  • तेजपत्ता
  • दालचीनी और
  • अदरक

साथ ही ये खाना दिन में दो बार बन रहा है। इस्कॉन के किचन में सुबह और शाम बनाया जाता है। ये खाना 5 जगहों पर बनता है लेकिन सोशल डिस्टेंस मेनटेन करके। आपको बता दें कि खाना सप्लाई करने के लिए 300 ई-रिक्शों का उपयोग किया जा रहा है। इन सभी ई-रिक्शों में जीपीएस लगा है, जिससे कि उसके लोकेशन की जानकारी लगातार ली जा सके और खाना समय पर पहुचाया जा सकें।

जमात के मामले न होते तो रुक चुका होता संक्रमण -योगी…

इस बात को लेकर इस्कॉन फूड फॉर लाइफ के हेड पीयूष गोयल ने एक मीडिया कर्मी से बातचीत के दौरान बताया कि, “जैसे ही कोरोना की वजह से लॉकडाउन हुआ तो गोपाल कृष्ण गोस्वामी महाराज का फोन आया और उन्होंने कहा कि इस्कॉन का उद्देश्य है कि पूरे विश्व में कोई भी भूखा नहीं रहना चाहिए. फिर हमने लोगों के लिए खाना बनाना शुरु किया. यहां के डीएम से भी कॉर्डिनेट किया. इसके बाद डीएम साहब के अलावा नोडल ऑफिसर भी हमारी मदद कर रहे हैं।”

उन्होंने आगे कहा, “सोशल डिस्टेंसिंग मेनटेन करने के लिए हमारे हर सेंटर पर सरकार के भी 4 लोग हैं जो इस पर नजर रखते हैं। इसके अलावा सरकार के लोग खाने की क्वालिटी भी जांचते रहते हैं. सरकार की तरफ से जो हंगर हेल्प लाइन नंबर जारी किए गए हैं। उसके माध्यम से हमें सरकार के लोग बताते हैं कि इस एरिया में 500 लोग या दूसरी किसी जगह 700 लोग भूखे हैं।”

AB STAR NEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है