क्या प्रकृति से खिलवाड़ का परिणाम है कोरोना?

चीन का खानपान बना दुनिया का दुश्मन!

जिस कोरोना वायरस से पूरी दुनिया त्रस्त हो चुकी है उस कोरोना वायरस के फैलने के पीछे कई कारण सामने आ रहे हैं। कोरोना वायरस को फैलाने के संबंध एक वीडियो सोशल मीडिया पर बड़ी ही तेज़ी से वायरल हुआ था। जिसमें चीन की एक लड़की चमगादड़ का सूप पीते हुए नज़र आती है। वैसे तो ये बड़ा ही चौंकाने वाला सूप है लेकिन चीन के व्यंजनों की फेहरिस्त में ये एक आम व्यंजन ही है। आखिर क्यों इस तरह के अजीबोगरीब खान-पान है चीन का ये कोई नहीं जानता लेकिन आज पूरी दुनिया इसी अजीबोगरीब खानपान से उत्पन्न कोरोना वायरस से जूझ रही है।

ये भी खाते हैं चीन के लोग

आपको जानकर हैरानी होगी कि चीन में शायद ही कोई ऐसा जानवर होगा जिसे वहां के लोग बख्श देते हों अन्यथा चीन में सांप, चूहे, बिल्ली, कुत्ते, ऊंट समेत सभी पशु पक्षियों और यहां तक की जलीय जीव-जन्तु का भक्षण भी किया जाता है। आपको बता दें चीन के लोग जिंदा जानवर खाने के शौकीन हैं। कुछ ऐसे जानवर हैं जिन्हें चीन के लोग जिंदा खाना ही पसंद करते हैं जैसे घोंघा, झींगा, फिश, सांप, गधा, बंदर का कच्चा ब्रेन, चूहे के बच्चे, बतख का भ्रूण आदि। आपको इन नामों को सुनकर ही घृणा हो रही होगी तो कल्पना भी नहीं की जा सकती कि चीन के लोग इन जानवरों को कितने चाव के साथ खाते होंगे।

हैदराबाद यूनिवर्सिटी की डॉक्टर ने बनाया कोरोना वायरस का टीका!

कोरोना ने सिखाया शाकाहार का पाठ

ये कारण पता लगा पाना काफी मुश्किल है कि आखिर क्या वजह है चीन में इस तरह के खान-पान की लेकिन कोरोना वायरस के संक्रमण के बाद चीन का वुहान शहर जहां कोरोना एक त्रासदी की तरह टूट पड़ा, वहां ऐसा कोरोना का खौफ पैदा हुआ कि जानवरों को मूली-गाजर की तरह चबा जाने वाले वुहान शहरवासियों ने मांसाहार से तौबा कर ली।

जानवरों से मनुष्य के शरीर में वायरस पहुंचाने का जिम्मेदार कौन?

कोरोना वायरस जानवरों में पाया जाने वाला एक सामान्य वायरस है लेकिन जानवरों से मनुष्य के शरीर में पहुंचाने वाला खुद मनुष्य ही है। माना जाता है कि कोरोना वायरस से संक्रमित जानवर के भक्षण से ही कोरोना का कहर इंसानों पर टूट पड़ा जिसका खामियाज़ा न सिर्फ चीन बल्कि दुनिया के तमाम देश भुगत रहे हैं।

कोरोना वायरस: इंदौर में बदले कलेक्टर और DIG, मनीष सिंह बने कलेक्टर

क्या कर्म का संकेत दे रही प्रकृति ?

कहते हैं प्रकृति ईश्वर का वरदान है और जब-जब प्रकृति से खिलवाड़ किया जाता है तो फिर कर्म भी भुगतना पड़ता है। निर्दोष जानवऱ, पक्षी और समुद्री जीवों को भी हमारी तरह जीने का अधिकार है लेकिन जब हम इनके अधिकारों का हनन करके खुद को सर्वेसर्वा समझ लेते हैं तो प्रकृति के प्रकोप का भाजन हमें बनना ही पड़ता है। आज पूरी दुनिया में कोरोना के कहर से लोग सहम गए हैं लेकिन जानवरों से इंसानों तक इस वायरस को पहुंचाने का जिम्मेदार चीन है जिसकी गलतियों का परिणाम आज पूरी दुनिया भुगत रही है। शायद प्रकृति का ये इशारा काफी है कि अगर प्रकृति से खिलवाड़ किया जाएगा तो दुनिया को परिणाम भुगतने के लिए भी तैयार रहना चाहिए।

AB STAR NEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते हैं