कोरोनावायरस की वजह से एनपीए में इस साल हो सकती है 1.9% बढ़ोतरी

एनपीए में 1.9 प्रतिशत और ऋण लागत अनुपात में 1.3 प्रतिशत की वृद्धि होने की उम्मीद है।

वैश्विक महामारी Coronavirus (कोरोना वायरस) के कारण आर्थिक मंदी से देश में 2020 के दौरान बैंकों की Non-performing asset (गैर-निष्पादित परिसंपत्तियों) (एनपीए) में 1.9 प्रतिशत और ऋण लागत अनुपात में 1.3 प्रतिशत की वृद्धि होने की उम्मीद है। एसएंडपी ग्लोबल रेटिंग्स के अनुसार, “एशिया-पैसिफिक बैंकों ने कोरोना संकट के कारण ऋण लागत में $ 300 बिलियन की वृद्धि देखी जा सकती है।” उनके अनुसार, चीन के एनपीए अनुपात में लगभग दो प्रतिशत की वृद्धि होगी, जबकि ऋण लागत अनुपात में एक प्रतिशत की वृद्धि होगी।

भोपाल में कोरोना वायरस से पहली मौत, 28 नए मामले आए सामने

रेटिंग एजेंसी के क्रेडिट एनालिस्ट गेविन गुनिंग ने कहा कि भारत में एनपीए अनुपात लगभग चीन (1.9 प्रतिशत) के बराबर हो सकता है, लेकिन ऋण लागत अनुपात लगभग 1.3 प्रतिशत तक बढ़ सकता है। गनिंग ने कहा कि यह भी चिंता का विषय है कि Coronavirus (कोरोना वायरस) संक्रमण आगे और तेजी से फैल जाएगा और इसका प्रभाव लंबे समय तक रह सकता है। उन्होंने कहा, ” इससे 2020 में आर्थिक समस्या बढ़ेगी, जिसका हम पहले ही अनुमान लगा चुके हैं।“

खुशखबरी: कोरोना को हराने के लिए बनाई जा रही ये वैक्सीन,…

उन्होंने कहा कि वित्तीय स्थिति खराब हो सकती है क्योंकि निवेशक जोखिम से बचने की कोशिश करेंगे। यह बैंकों द्वारा दिए गए ऋण को प्रभावित करेगा। “स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, पिछले 12 घंटों में देश भर में 490 नए मामले दर्ज किए गए हैं। इसके साथ, आज सुबह तक देश में कोरोना पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या बढ़कर 4067 हो गई है। इनमें से 3666 सक्रिय हैं, 291 लोग स्वस्थ हो गए हैं या उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है।

AB STAR NEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है