कोरोना वायरस से बचाएगा सोना 2.5 नाम का रोबोट

कोरोना वायरस का कहर इस कदर बढ़ गया है की ज्यादा मुश्किलें डॉक्टर, नर्सों और पैरा मेडिकल स्टाफ को झेलनी पड़ रही हैं।

Rajasthan (राजस्थान) के jaipur (जयपुर) के राज्य के सबसे बड़े एसएमएस अस्पताल के Isolation ward (आइसोलेशन वार्ड) में सोना Robot (रोबोट) के इस्तेमाल की कोशिश की गई। इसमें सोना 2.5 के माध्यम से कोरोना पीड़ित को दवा देने के लिए एक परीक्षण किया गया था। कोरोना संक्रमित मरीजों को दवा देने के लिए Nursing staff (नर्सिंग स्टाफ) और Paramedical Staff (पैरामेडिकल स्टाफ) को कई बार उनके संपर्क में आना पड़ता है।

कोरोना का कहर जारी, ओडिशा से सामने आया तीसरा मामला

इसी को देखते हुए इस रोबोट को इस्तेमाल करने की योजना बनाई गई है। यह नर्सिंग स्टाफ और पैरामेडिकल स्टाफ को कोरोना संक्रमित रोगी के संपर्क में बार-बार आने से रोकेगा। सोना 2.5 रोबोट विकसित करने वाली कंपनी क्लब फर्स्ट टेक्नोलॉजी के प्रबंध निदेशक Bhuvnesh Mishra (भुवनेश मिश्रा) ने कहा कि “यह केवल भारत में ही नहीं है, बल्कि मेरी राय में दुनिया की पहली पहल है कि हम रोबोट के माध्यम से आइसोलेशन वार्ड में सेवा कार्य कर रहे हैं।”

जब सीएम ममता बनर्जी ने सड़क पर उठा ली ईंट

उन्होंने कहा कि यह रोबोट उन लोगों के बहुत करीब पहुंच सकता है जो कोरोना के मरीज हैं, और मरीजों को भोजन और दवाइयां उनके बिस्तर तक पहुंचा सकते हैं। सोना 2.5 रोबोट को कंप्यूटर के माध्यम से एक जगह से बैठकर संचालित किया जा सकता है। इसलिए, यह रोबोट बिना किसी जोखिम के कोरोना संक्रमित रोगी का इलाज करने में सक्षम होगा।

AB STAR NEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते हैं