कोरोना वायरस खुशखबरीः पुराने मरीजों के खून से ठीक हुए नए मरीज

ये खून उन मरीजों का था जो पहले से ही कोरोनावायरस से संक्रमित थे। इस इलाज को चीन के हॉस्पिटल में सबसे पहले अपनाया गया था।

Coronavirus (कोरोना वायरस) का कहर इस कदर बढ़ गया है कि हर कोई इस महामारी से परेशान नजर आ रहा है। लेकिन वहीं इस बीच एक राहत भरी खबर सामने आई है। बता दें कि कोरोना से संक्रमित पांच सबसे गंभीर मरीजों का इलाज खून से किया गया है। ये खून उन मरीजों का था जो पहले से ही Coronavirus (कोरोना वायरस) से संक्रमित थे। इस इलाज को चीन के हॉस्पिटल में सबसे पहले अपनाया गया था। वहीं इलाज के बाद तीन मरीजों को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है, लेकिन दो लोग अब भी अस्पताल में भर्ती है जिनका स्वास्थ्य पहले से बेहतर है।

  कोरोना: 24 घंटे में अमेरिका में 865 लोगों की गई जान

ऐसे मरीजों का इलाज करने वाले डॉक्टरों का कहना है कि, कोरोना वायरस से संक्रमित हुए पुराने मरीजों के खून से ट्रीटमेंट करने पर काफी मरीजों को ठीक किया जा सकता है। इस खबर की जानकारी एक वेबसाइट ने दी है।

बता दे कि चीन के एक हॉस्पिटल (द शेनझेन थर्ड पीपुल्स हॉस्पिटल) ने इस बात की जानकारी 27 मार्च को दी थी। अस्पताल प्रबंधन ने बताया कि जिन नए मरीजों का पुराने करोना मरीजों के खून से इलाज किया गया था उनकी उर्म 36 से 79 साल के बीच थे।

Coronavirus: 15 साल की इस निशानेबाज ने पीएम केयर फंड में…

वैज्ञानिक इस इलाज के तरीके को कोवैलेसेंट प्लाज्मा कहते हैं। इससे कई बीमारियों को ठीक किया जा चुका है। इसमें पुराने मरीजों के खून को नए मरीजों में डाला जाता है और उनकी प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाई जाती है।

AB STAR NEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते हैं