Corona Virus Effect : जो कोई न कर सका वो 'कोरोना' ने कर दिखाया

80 से ज्यादा मामले और तीन मौतें यह बताने के लिए काफी है कि भारत में भी कोविड-19 तेजी से अपने पांव पसार रहा है।

आतंकवाद से भी घातक, आतंक का नया अभिप्राय बन चुका एक वायरस जिसने दुनिया के सभी देशों को सामानता की एक लाईन में खड़ा कर दिया। मैं बड़ा, मैं सबसे शक्तिशाली के अहम में डूबे कई देश भी इसके आगे बेबस नजर आ रहे हैं। क्या बड़ा, क्या छोटा इसकी नजर में सब एक हैं। यह कोविड-19 है, जो पैसे नहीं देखता, जो ताकत नहीं देखता, जो अत्याधुनिक हथियार नहीं देखता, जो न्यूक्लीयर वैपन नहीं देखता, जो बॉर्डर नहीं देखता वहां खड़ी फोर्स नहीं देखता, देखता है तो बस एक शरीर। कोविड-19 के आतंक से भारत भी अब अछुता नहीं।

सुरक्षित रहें, सतर्क रहें

80 से ज्यादा मामले और तीन मौतें यह बताने के लिए काफी है कि भारत में भी कोविड-19 तेजी से अपने पांव पसार रहा है। सरकार तमाम कोशिशें कर रही है लेकिन यह कोशिशें नाकाफी नजर आ रही है क्योंकि सरकार की इस कोशिश में भागीदारी हम सबकी नहीं है। अभी भी लोग छिप रहे हैं, डर रहे हैं, जांच से भाग रहे हैं और अपनों के लिए घातक साबित हो रहे हैं। भले ही भारत में हालात यूरोपीय देशों की तरह खतरनाक नहीं है, यहां मौत का आंकड़ा 100 के पार नहीं है। लेकिन इस बात से भी इंकार नहीं किया जा सकता कि भारत कोरोना की चपेट में है। जल्द सख्त कदम नहीं उठाए गए, सख्त फैसले नहीं लिए गए तो हालात बिगड़ते वक्त नहीं लगेगा। ऐसे में सुरक्षा बरतना अब सबकी जिम्मेदारी है।

कोरोना ने पढ़ाया हाईजीन का पाठ

वैसे कोविड़-19 खतरनाक है, इसकी तस्वीर भयानक है लेकिन एक खूबसुरत पाठ यह जरूर दुनिया को पढ़ा रहा है और वो है हाईजीन का। बार-बार हाथ धोना जो कभी हमें परेशानी लगती थी आज वो कोरोना से लड़ने का हथियार नजर आ रहा है। हाईजीन का जो पाठ घर से लेकर स्कूल-कॉलेजों में पढाया जाता है, जिसे पढ़कर हम भूल जाते हैं। आज वो ना सिर्फ अच्छे से रट गया है बल्कि याद हो गया है, दिल-दिमाग में फिट हो गया है।

इसी के साथ भारत की विशाल संस्कृति का वो हिस्सा जिसे हमारी आज की शो-सा-बाजी वाली पीढ़ी फॉलो नहीं करना चाहती। वो खूबसुरत हिस्सा जिसे जब हम विदेश जाते हैं तो भारत में ही छोड़ देते हैं, आज उसे दुनिया फॉलो कर रही है। ग्लोबल लीडर्स हाथ-जोड़कर जब आज नमस्कार करते हैं तो एक तमाचा जरूर आज की पीढ़ी पर पड़ता होगा जो हाई-फाई कल्चर से आगे नहीं सोचती।

AB STAR NEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते हैं