5 मिनट में कोरोना पॉज़िटिव, 13 मिनट में नेगेटिव

0
41

फोर्ब्स.कॉम की रिपोर्ट की मानें तो अमेरिका के खाद्य और औषधि प्रशासन विभाग ने इस डिवाइस को मंजूरी प्रदान कर दी है।

कोरोना के कहर से पूरी दिनिया त्रस्त गई है। जिस गति से कोरोना के मरीजों की संख्या में इज़ाफा हो रहा है ऐसे में कोरोना का परीक्षण करने में लगने वाले समय को घटाने की आवश्यकता है। कोरोना के टेस्ट में लगने वाले समय को घटाने के लिए अमेरिका की एक कंपनी ने दावा किया है कि उन्होंने एक ऐसी डिवाइस को विकसित किया है जिससे करीब 5 मिनट में ही कोरोना का टेस्ट मुमकिन है। 5 मिनट के अंदर ही पता चल जाएगा कि मरीज कोरोना पॉज़िटिव है अथवा नहीं।

कोरोना संकट के बीच सुरेश रैना ने दान किए 52 लाख रुपये

कोरोना टेस्ट डिवाइस को

फोर्ब्स.कॉम की रिपोर्ट की मानें तो अमेरिका के खाद्य और औषधि प्रशासन विभाग ने इस डिवाइस को मंजूरी प्रदान कर दी है। इस डिवाइस को बनाने वाली कंपनी का नाम एबॉट लेबोरेटरीज है। इस कंपनी न कोरोना संक्रमण की जांच के लिए टेस्ट का प्रदर्शन भी किया है। एबॉट लेबोरेटरीज ने अपने ऑफिशियल ट्विटर अकाउंट से ये सूचना भी दी है कि हम एक परीक्षण शुरू कर रहे हैं जो कोविड-19 का पता लगाने में सक्षम है। ये परीक्षण 5 मिनट से भी कम समय में हो जाएगा। कंपनी ने एक प्रेस विज्ञप्ति भी जारी की है जिसमे कहा गया है कि ये टेस्ट कंपनी के ID NOW प्लेटफॉर्म पर होगा। डिवाइस के संबंध में कंपनी ने बताया है कि ये एक छोटी, कम वज़न वाली और पोर्टेबल डिवाइस है जो मॉलिक्यूलर टेक्नोलॉजी पर काम करता है।

कोरोना से लड़ाई के बीच अक्षय कुमार ने दी 25 करोड़ की सहायता राशि, पीएम मोदी ने की तारीफ

सोशल मीडिया में कोरोना टेस्ट डिवाइस के चर्चे

अमेरिका की इस कंपनी के ऐलान के बाद लोग आश्चर्य में पड़ गए हैं साथ ही एक खुशी भी है क्योंकि लगातार बढ़ती मरीजों की संख्या पर नियंत्रण पाने के लिए टेस्टिंग में लगने वाली अवधि को कम करना अति आवश्यक है और इस कल्पना को एबॉट लेबोरेटरी ने सच कर दिखाया है। एबॉट लेबोरेटरी ने कोविड-19 को सबसे कम समय में टेस्ट करने वाली डिवाइस बनाकर मेडिकल के क्षेत्र में एक क्रांति ला दी है। सोशल मीडिया पर इस डिवाइस की चर्चा के बीच अमेरिका खाद्य एवं औषधि प्राधिकरण ने मॉलिक्यूलर प्वाइंट ऑफ केयर टेस्ट के लिए इमरजेंसी उपयोग की मंजूरी भी दे दी। ये डिवाइस 5 मिनट में पॉज़िटिव और 13 मिनट में नेगेटिव रिपोर्ट देने में सक्षम है।

पोर्टेबेल डिवाइस से टेस्टिंग में मिलेगी मदद

इस डिवाइस की खासियत ये है कि ये मशीन कम वजन वाली, आकार में छोटी और पोर्टेबेल है यानि कि इस मशीन को आसानी से क्लीनिक में भी उपलब्ध कराया जा सकता है। कंपनी का कहना है कि आने वाले समय में इस डिवाइस से 50 हजार से भी अधिक टेस्ट किए जाएंगे। इस डिवाइस को एक बड़ी उपलब्धि के रूप में भी देखा जा सकता है क्योंकि टेस्टिंग में लगने वाले समय के कारण अधिक से अधिक मरीजों की कम समय में जांच नहीं हो पाती। इस मशीन से अधिक से अधिक मरीजों की टेस्टिंग कम समय में होने से कोरोना के मामले पूर्णतया स्पष्ट हो पाएंगे और कोरोना वायरस के संक्रमण से पहले ही नियंत्रण पाने में सफलता हासिल हो सकेगी।

AB STAR NEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते हैं