5 अप्रैल को को-रोना दीवाली, जलाएं दीपक और टॉर्च

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो जारी कर देश को संबोधित करते हुए लोगों से 5 अप्रैल की रात मोमबत्ती या मोबाइल का फ्लैश जलाने की अपील की।

देश में कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर वीडियो जारी कर देश को संबोधित किया। अपने संबोधन में पीएम मोदी ने ना सिर्फ लोगों को लॉकडाउन के महत्व को समझाया बल्कि इस महामारी के खिलाफ जारी लॉक डाउन के दौरान लोगों ने जिस प्रकार अनुशासन और सेवा भाव का परिचय दिया उसकी सराहना भी की।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा 5 अप्रैल को हम सबको मिलकर इस संकट के अंधकार को चुनौती देनी है। इस संकट को प्रकाश के ताकत का परिचय देना है। पीएम मोदी ने कहा की हमें इस दिन 130 करोड़ देशवासियों की महाशक्ति का जागरण करना है। इस संकल्प को  नई ऊंचाइयों पर ले जाना है।

पीएम मोदी ने कहा, “रविवार को रात 9 बजे मैं आप सबके 9 मिनट चाहता हूं। घर की सभी लाइटें बंद करके, घर के दरवाजे पर या बालकनी में खड़े रहकर 9 मिनट के लिए मोमबत्ती , दिया टॉर्च या मोबाइल की फ्लैशलाइट जलाएं। उस समय घर की सभी लाइटें बंद रखेंगे, चारों तरफ जब हर व्यक्ति एक-एक दिया जलाएगा तब प्रकाश की उस महाशक्ति का अहसास होगा कि हम सब एक ही मकसद से लड़ रहे हैं”।

वीडियो के जरिए देशवासियों को पीएम का संदेश- 5 अप्रैल को…

मोहल्लों में नहीं, घर के दरवाजे या बलाकनी से दें समर्थन

पीएम मोदी ने आगे कहा कि देश की 130 करोड़ जनता अपने मन में ये संकल्प करें कि हम अकेले नहीं हैं। कोई भी अकेला नहीं है। इसके साथ ही पीएम मोदी ने सोशल डिस्टेंसिंग की लक्ष्मण रेखा न लांघना को लेकर भी कहा, “मेरी आपसे एक और प्रार्थना है कि इस आयोजन के समय किसी को भी कहीं पर भी इकट्ठा नहीं होना है। रास्तों में , गलियों में या मोहल्लों में नहीं जाना है। अपने घर के दरवाजे या बलाकनी से ही इसे करना है। किसी भी हालत में सोशल डिस्टेंसिंग को तोड़ना नहीं है। कोरोना की चेन तोड़ने का यही रामबाण इलाज है”।

कोरोना के खिलाफ 22 मार्च रविवार को लड़ाई लड़ने वाले का किया धन्यवाद

पीएम मोदी ने कहा कि देश में जारी लॉकडाउन को 9 दिन बीत गए हैं। इन दिनों में जिस तरह से लोगों ने  सेवा भाव का परिचय दिया है वो सराहनीय है। इसके अलावा पीएम मोदी ने कहा, “22 मार्च रविवार को दिन देश ने जो कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ी वो आज कई देशों के लिए मिसाल बन गया है। जनता कर्फ्यू, या थाली बजाने का कार्यक्रम हो इसकी सामूहिक शक्ति का असहास कराया। इससे पता चला कि देश एक होकर कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ सकता है”।

130 करोड़ देशवासियों की सामूहिक शक्ति हर व्यक्ति के साथ

अपने संबोधन में पीएम नरेंद्र मोदी ने आगे कहा लॉक डाउन के दौरान जब देश के करोड़ों लोग अपने घरों में हैं तो उन्हें ऐसा लगता होगा कि वह अकेले क्या कर पाएंगे और उन्हें कितने दिन घर पर रहना होगा। इस पर जवाब देते हुए पीएम मोदी ने कहा, “हम अपने घरों में जरूर हैं लेकिन हममे से कोई भी अकेला नहीं है। 130 करोड़ देशवासियों की सामूहिक शक्ति हर व्यक्ति के साथ है। समय-समय पर देशवासियों की इस सामूहिक शक्ति कि विराटता और इसकी दिव्यता की अनुभूति करना आवश्यक है”।

देश में ना होता लॉकडाउन तो कुछ ऐसी होती, स्थिति

आगे लोगों का मनोबल बढ़ाते हुए पीएम मोदी ने कहा की जब देश इतनी बड़ी लड़ाई लड़ रहा होता है। तो जनता रूपी विराट शक्ति का बार-बार साक्षात्कार करते रहना चाहिए। इससे हमें मनोबल मिलता है, लक्ष्य देता है और उसे पाने की शक्ति देता है।

अंधकार के बीच हमें निरंतर प्रकाश के बीच जाना है

 पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि दुनिया पर फैले इस अंधकार के बीच हमें लगातार प्रकाश के बीच जाना है। जो गरीब तबका इस संकट से सबसे ज्यादा प्रभावित और निराश है। उसे आशा की तरफ ले जाना है। इस संकट से जो अंधकार और अनिश्चितता पैदा हुई है। उसे खत्म कर उजाला और निश्चिता की तरफ बढ़ाना है।

AB STAR NEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है