बिहार के निवासियों के लिए सरकार का बड़ा ऐलान

0
51

मुख्यमंत्री विशेष सहायता पाने की शर्तें

कोरोना की जंग जीतने के लिए भारत अपनी पूरी ताकत झोंक रहा है। कोरोना से बचाव के लिए जारी लॉकडाउन में पूरी दुनिया थम सी गई है। अन्य राज्यों में नौकरी कर रहे लाखों लोग अपने घर-परिवार से दूर हैं। ऐसे में केंद्र सरकार के साथ ही राज्य सरकारें भी अपने राज्य के निवासियों के लिए चिंतित हैं और उन तक हर संभव मदद पहुंचाने के लिए तत्पर हैं। बिहार सरकार ने भी राज्य के निवासी जो बाहर दूसरे राज्य में फंस गए हैं उनके लिए बड़ा ऐलान किया है।

कोरोना के बढ़ते संकट से सरकार ने लिया बड़ा फैसला, बिहार राज्य की सभी…

बड़ी संख्या में पलायन के मद्देनजर बिहार सरकार ने लिया फैसला

लॉकडाउन के दौरान अधिकतर लोग अपने राज्य से बाहर हैं। कोई मजदूरी के कारण बाहर रहने को मजबूर है तो नौकरीपेशा लोगों के लिए भी संकट की घड़ी है। ऐसे में बिहार के निवासियों के लिए सरकार ने चिंता जताई है और सभी बिहार के निवासी जो राज्य से बाहर निवास कर रहे हैं और लॉकडाउन के कारण अपने परिवार के पास जाने में समर्थ नहीं है, उनके लिए बिहार सरकार ने इन सभी के खाते में 1000 रुपए भेजने का ऐलान किया है। कोरोना के संक्रमण के कारण लॉकडाउन की स्थिति में केंद्र और सभी राज्य सरकारें हर नागरिक तक मूलभूत आवश्यकताओं की पूर्ति करने के लिए कई कदम उठा रही हैं। इसी कड़ी में बिहार सरकार ने भी गंभीरता दिखाई है। बिहार सरकार के इस ऐलान के पीछे मजदूरों का पलायन भी जिम्मेदार है क्योंकि जिस बड़ी संख्या में बिहार के रहने वाले मजदूर दिल्ली से पैदल चलकर पलायन करने लगे, उस स्थिति में सरकार को उनकी दयनीय स्थिति का अंदाजा लग गया क्योंकि लॉकडाउन की स्थिति में मजदूरों के पलायन के कारण लॉकडाउन का उल्लंघन हुआ। इसीलिए बिहार सरकार ने राज्य के निवासियों की मजबूरी को देखते हुए 1000 रुपए उनके खाते में भेजने का ऐलान किया है।

डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने ट्वीट कर दी जानकारी

बिहार के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने ट्वीट कर ये जानकारी दी है कि लॉकडाउन के दौरान बिहार के जितने लोग राज्य के बाहर कहीं फंस गए हैं उनके खाते में सरकार ने 1000 रु. डालने का निर्णय लिया है। मुख्यमंत्री विशेष सहायता के अंतर्गत राज्य के बाहर फंसे लोगों को 1 हजार रुपए की कोरोना तत्काल सहायता राशि दी जाएगी।

बिहार: कोरोना के खौफ के बीच चमकी ने दी दस्तक, सामने आया पहला केस

बिहार सरकार द्वारा सहायता राशि पाने के लिए क्लिक करें

डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने ट्वीट कर राज्य सरकार द्वारा प्रदान की जा रही सेवा के संबंध में विस्तृत जानकारी दी। ट्वीट में लिखा है ‘मुख्यमंत्री राहत कोष, बिहार से मुख्यमंत्री विशेष सहायता अंतर्गत बिहार के बाहर फंसे लोगों को रु. 1000/- की कोरोना तत्काल सहायता राशि दी जाएगी। इसे प्राप्त करने हेतु दिए गए मोबाइल एप को aapda.bih.nic.in से डाउनलोड करें तथा अपने बारे में सूचना अंकित करें।’ तो अगर आप बिहार राज्य के निवासी हैं और बाहर कहीं फंस गए हैं तो बिहार सरकार ने आपको सहायता राशि प्रदान करने का ऐलान किया। ट्वीट में दिए गए लिंक पर क्लिक करके आप फॉर्म को डाउनलोड करके फॉर्म में अपने बारे में जानकारी को अंकित करें। इससे सरकार को बिहार राज्य के सभी निवासियों का ब्यौरा प्राप्त हो जाएगा जो बाहर कहीं फंसे हैं और लॉकडाउन के कारण घर से दूर हैं। सरकार आपके हित का ख्याल रख रही है ऐसे में आपकी भी जिम्मेदारी बनती है कि आप भी सरकार के आदेशों का पालन करें। लॉकडाउन का उल्लंघन न करें। कोरोना महामारी की जंग हम सभी को मिलकर लड़नी है इसलिए अपनी भागीदारी सुनिश्चित करें।

प्रवासी श्रमिकों के अचानक आने से प्रबंध में हुई थी परेशानी

डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने बताया कि लॉकडाउन के कारण अचानक हजारों की संख्या में आए प्रवासी श्रमिकों के प्रबंध करने में काफी मुश्किलें आई थीं लेकिम फिर बाद में ग्रामीणों की सहायता से प्रबंधन के काम को भी निपटा लिया गया।

कोरोना संकट: बिहार विधानसभा अनिश्चितकालीन स्थगित, पीड़ितों का इलाज कराएगी सरकार

बिहार में सरकार की पूरी तैयारी

डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने बताया कि बिहार की प्रत्येक पंचायत में एक स्कूल को अलग से एक केंद्र का रूप दिया गया है। जिससे बाहर से आए प्रवासियों के लिए जगह की कमी न हो। इसके अलावा बिहार में कोरोना के संक्रमण को लेकर सरकार पूरी तरह से गंभीर है जितने भी लोग 18 मार्च के बाद आये हैं, उनकी जांच के आदेश दिए गए हैं। जिससे बाहर से आने वालों की हेल्थ रिपोर्ट के आधार पर उन्हें उचित इलाज मिल सके और कोरोना के संक्रमण को फैलने से रोका जा सके।

AB STAR NEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते हैं