घाटी से 370 हटने के बाद, अब नजरबंदी से मुक्त होंगे ये नेता…

0
141

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और वाजपेयी सरकार में  केंद्रीय मंत्री फारूक अब्दुल्ला की नजरबंदी हटा दी गई है।

नई दिल्ली: जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटने के बाद शांति व्यवस्था कायम रहे, इसलिए केंद्र सरकार ने 5 अगस्त से पहले कानूनी प्रावधानों के तहत, घाटी के पूर्व मुख्यमंत्रियों के साथ-साथ कई नेताओं को नजरबंद किया था। जिसे अब सरकार खत्म कर रही है।

दरअसल, आर्टिकल 370  हटने के बाद राज्य के तीन-तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों फारुख अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती को नजरबंद किया गया था, ताकि राज्य की कानून व्यवस्था न बिगड़े और किसी भी प्रकार की अप्रीय घटना न घटे। लिहाजा केंद्र की मोदी सरकार ने अब इन तमाम नेताओं की नज़रबंदी धीरे-धीरे खत्म कर रही है।

जिसमें से जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और वाजपेयी सरकार में  केंद्रीय मंत्री फारूक अब्दुल्ला की नजरबंदी हटा दी गई है।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अभी हाल ही में प्रार्थना करते हुए ये कहा था कि वह जम्मू-कश्मीर के तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों के नजरबंदी से जल्द रिहा हो इसके लिए वो प्रार्थना कर रहे हैं,  इस उम्मीद के साथ कि वे कश्मीर में हालात को सामान्य बनाने में योगदान देंगे।

उल्लेखनीय है कि केंद्र की मोदी सरकार ने पिछले साल 5 अगस्त को घाटी से पूरी तरह उस कानून को खत्म कर किया था जो भारत के तमाम कानूनों से जम्मू कश्मीर को अलग करता था। मतलब साफ है कि विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद-370 को पूर्ण रुप से हटा दिया गया गया है।

370 हटने के बाद घाटी को दो केंद्र शासित राज्यों जम्मू एवं कश्मीर और लद्दाख में विभाजित गया। धारा 370 हटने के बाद अब कोई भी व्यक्ति यहां जमीन की खरीदारी कर सकता है। भारतीय तिरंगा फहरा सकता है, शादी विवाह के साथ-साथ तमाम वो कार्य कर सकता है जो देश के किसी भी हिस्से में करता है और न्यायसंगत हो।   

AB STAR NEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते हैं