सीएम योगी ने राज्य कर्मचारियों को दी राहत

नहीं होगी राज्य कर्मचारियों की सैलरी में कटौती

पूरा देश कोरोना वायरस से बचाव के लिए युद्धस्तर पर कार्य कर रहा है। ऐसे में लॉकडाउन का समय बड़ा ही चुनौतीपूर्ण है। प्राइवेट कर्मचारियों को नौकरी जाने और सैलरी कटने की आशंका है तो वहीं सरकारी कर्मचारी भी इस संकट की घड़ी में सरकार द्वारा वेतन कटौती की आशंका से डरे हैं। इन्हीं आशंकाओं को दूर करते हुए उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने सरकारी कर्मचारियों को बड़ी राहत दी है।

देश में कोरोना का कहर जारी, स्वर्ण मंदिर के पूर्व हजूरी रागी निर्मल सिंह का निधन

सीएम योगी आदित्यनाथ ने सरकारी कर्मचारियों को दी राहत

कोरोना के कहर के चलते जहां अन्य राज्यों की सरकार राजस्व में कमी के कारण सरकारी कर्मचारियों के वेतन में कटौती का फैसला ले रही हैं ऐसे में उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने सरकारी कर्मचारियों के भय को दूर करते हुए बड़ा ऐलान किया है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने ऐलान किया है कि इस मुश्किल घड़ी में परेशानी को समझते हुए राज्य सरकार के कर्मचारियों के वेतन में न तो कटौती की जाएगी और न ही वेतन देने में देरी की जाएगी।

मार्च का वेतन बिना कटौती के जारी

यूपी के अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी  ने बताया कि सीएम योगी आदित्यनाथ ने मिसाल पेश की है। सीएम योगी का कहना है कि राज्य की अर्थव्यवस्था मजबूत है और इस संकट की घड़ी में व्यवस्थाओं को संभाल सकते हैं। आपको बता दें सीएम योगी ने प्राइवेट कंपनियों को कर्मचारियों की सैलरी पूरी उन्हें देने के लिए कहा था। तो ऐसे में सरकारी कर्मचारियों की सैलरी की कटौती करना या रोकना गलत होता।

भाई की मौत के बाद बौखलाए कोरोना पॉजिटिव मरीज ने किया डॉक्टर पर हमला

किन राज्यों में राज्य कर्मचारियों की सैलरी काटने का ऐलान

कोरोना वायरस के कारण देश के सभी राज्यों को राजस्व का नुकसान हो रहा है। ऐसे में कुछ राज्यों ने राज्य कर्मचारियों के वेतन में कटौती का ऐलान किया है। इन राज्यों में आंध्र प्रदेश, राजस्थान, ओडिशा और तेलंगाना शामिल है जहां राज्य कर्मचारियों की सैलरी काटने का निर्णय लिया गया है। इसके अलावा महाराष्ट्र में मंत्रिमंडल, एमएलए, एमएलसी, निगम अध्यक्ष के अलावा अन्य निर्वाचित प्रतिनिधियों के वेतन से 50 फीसदी की कटौती करने का निर्णय लिया गया है। वहीं आंध्र प्रदेश में सरकार ने सरकारी कर्मचारियों की सैलरी रोकने का भी आदेश दे दिया है। जिन सरकारी कर्मचारियों की सैलरी रोकने का आदेश दिया गया है उनमें मुख्यमंत्री, मंत्री, विधायक, नगर निगम सदस्य और निर्वाचित प्रतिनिधि शामिल हैं।

क्या कहते हैं उत्तर प्रदेश के हालात ?

कोरोना महामारी से लड़ने में पूरे देश की अर्थव्यवस्था का बुरा हाल है लेकिन इस वक्त प्राथमिकता है देशवासियों की कोरोना के संक्रमण से रक्षा करना, उन्हें उचित स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करना और इसी मंशा के साथ उत्तर प्रदेश के सीएम योगी ने मिसाल कायम की है जहां उन्होंने प्राइवेट कंपनियों को उनके कर्मचारियों की पूरी सैलरी देने को कहा तो वहीं राज्य कर्मचारियों की सैलरी भी बिना किसी कटौती के देने का आदेश दिया। इतना ही नहीं सीएम योगी आदित्यनाथ ने आश्वासन भी दिया है कि प्रदेश कोरना से जंग जीतने में सक्षम है।

AB STAR NEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते हैं