Coronavirus: फुटबॉल टीम के पूर्व कप्तान बाईचुंग भूटिया ने प्रवासी मजूदरों को छत देने का किया फैसला

बाईचुंग भूटिया का कहना है कि वो प्रवासी मजदूरों को रहने के लिए छत देंगे। उन्होंने सिक्किम स्थित लुम्सेय और तडोंग में अपनी बिल्डिंग देने का ऐलान किया है।

कोरोना वायरस के चलते देश में 21 दिन का लॉकडाउन जारी है। गरीब और मदजूर अपने घर की तरफ पैदल ही चल पड़े हैं। सड़कों पर प्रवासी मजूदरों की काफी संख्या देखने को मिली है। इसी बीच भारतीय फुटबॉल टीम के पूर्व कप्तान बाईचुंग भूटिया इन प्रवासी मजदूरों की मदद के लिए आगे आए हैं।

बाईचुंग भूटिया का कहना है कि वो प्रवासी मजदूरों को रहने के लिए छत देंगे। उन्होंने सिक्किम स्थित लुम्सेय और तडोंग में अपनी बिल्डिंग देने का ऐलान किया है। इस बात की जानकारी भूटिया ने सोशल मीडिया पर वीडियो शेयर करते हुए दी है। बाईचुंग भूटिया ने ट्वीट करते हुए कहा कि मैं प्रवासी मजदूरों के लिए परेशान हूं और लॉकडाउन और कोविड-19 की वजह से अपने घरों की तरफ पैदल ही निकल पड़े हैं ऐसे लोगों के लिए मैं सिक्किम में स्थित अपनी बिल्डिंग देने की पेशकश करता हूं। इसी के साथ मैं लोगों से सरकार के निर्देशों को पालन करने की अपील करता हूं।

कोरोना संकट के बीच भारतीय शूटर मनु भाकर ने डोनेट किए…

बता दें, कोरोना वायरस ने दुनिया के करीब 200 से ज्यादा देशों तक पहुंच बना ली है। भारत में भी इसके लगातार मामले बढ़ते जा रहे हैं। कोरोना वायरस के फैलाव को रोकने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 21 दिन के लॉकडाउन का ऐलान किया। जिसके बाद प्रवासी मजदूर अपने हॉमटाउन के लिए पैदल ही निकल पड़े। यातायात का कोई साधन ना होने की वजह से दिल्ली, अहमदाबाद जैसे बड़े शहरों से लोग अपने घर की तरफ पैदल ही चल दिए। लोग का सैलाब सड़कों पर इस वक्त देखने को मिल रहा है।

AB STAR NEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते हैं