देश में एक और डरावना मामला सामने आया है और इस बार मामला  महाराष्ट्र के  जलगांव से है  माँ बाप अपने बच्चों को घर पे छोड़ के किसी की रस्म क्रिया पर जाते हैं और जब माँ बाप एक राज्य से दूसरे राज्य जाते हैं अपने बच्चों को अकेला छोड़ के बिना किसी चिंता के जाते हैं और उन्हें  टेलीफोन पर उनके बच्चों की  हत्या की खबर मिलती है तब सोच के लगता है देश में अपराध करने वालों का  डर प्रसाशन से बिलकुल हटता जा रहा है

महाराष्ट्र के जलगांव जिले में चार बच्चों की कथित तौर पर कुल्हाड़ी से हत्या कर दी गई है। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि मामले में चार लोगों को हिरासत में लिया गया है। उन्होंने बताया कि रावेर तालुक के बोरखेड़ा शिवार गांव में एक खेत में बने मकान में बच्चे खून से लथपथ पाए गए। अधिकारी ने कहा कि घटना उस वक्त हुई जब बच्चों के माता-पिता अपने बड़े बेटे के साथ किसी संबंधी की मृत्यु के बाद के कर्मकांड में शामिल होने के लिए मध्य प्रदेश गए थे। उन्होंने आगे कहा कि खेत का मालिक सुबह जब खेतों पर गया तो उसने चारों भाई-बहनों को खून से लथपथ पाया और इसकी सूचना तत्काल गांववालों को तथा पुलिस को दी।

चारों बच्चों की उर्म 6-13 वर्ष के बीच थी

अधिकारी ने बताया कि रावेर पुलिस ने मौके पर पहुंचकर संगीता (13), राहुल (11) अनिल (8) और ननी (6) के शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा। उन्होंने कहा, ”बच्चों की हत्या कुल्हाड़ी से की गई है और उनके गले पर गहरे घाव हैं। अधिकारी ने बताया कि अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज जांच की जा रही है। इधर, नासिक रेंज के पुलिस महानिरीक्षक प्रताप दिवाकर ने बताया कि जलगांव पुलिस चार लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।  इस संबंध में एक अन्य अधिकारी ने बताया कि पुलिस ने मामले की जांच के लिए तीन टीमों का गठन किया है।

जलगांव के रावेर तहसील के बोरखेड़ा गांव में हुए इस दिल दहला देने वाले हत्याकांड ने पूरे इलाके में हड़कंप मचा दिया है। बोरखेड़ा गांव के खेत में सुबह-सुबह मिले इन चार बच्चों के शव से पूरे गांव में गुस्से और शोक का माहौल है। मध्य प्रदेश से नौकरी की तलाश में यह परिवार महाराष्ट्र के जलगांव में आया था। महताब और उसकी पत्नी रूमली बाई भिलाला बोरखेड़ा गांव के ही मुस्तफा नाम के व्यक्ति के यहां खेती कर जीवनयापन करते हैं। महताब और उसकी पत्नी मध्य प्रदेश के गढ़ी इलाके के रहने वाले हैं

अब जब इस तरह की घटना शहर में भी होती हैं और वहीँ ट्राइबल कम्यूनिटीज़ के साथ भी होती क्या आपके दिमाग में सवाल नहीं आया की हम किस तरह के समाज में रहते है क्या इस देश में माँ बाप निश्चिंत होकर अपने बच्चों को अकेला नहीं छोड़ के जा सकते। .. और एक राज्य में हो रहा होता तो प्रसाशन पर सवाल उठ सकता है है लेकिन जब हर राज्य में इस तरह की घटना दिन बदिन बढ़ती जाएगी तो राज्य का प्रसाशन कहाँ – कहाँ पहुंचेगा

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है