1 अप्रैल से 6 सरकारी बैंकों में बदलाव होने जा रहें हैं जिसका सीधा असर आम लोगों पर पड़ेगा।

0
19

1 अप्रैल से 6 सरकारी बैंकों में बदलाव होने जा रहें हैं जिसका सीधा असर आम लोगों पर पड़ेगा।

1 अप्रैल से देश में जारी लॉकडाउन के बीच 6 सरकारी बैंकों का वजूद बदल जाएगा। जी हां, यह बैंक 1अप्रैल से अपना नाम और अपनी पहचान दोनों ही पूरी तरह से खो देंगे। ऐसे में अगर आप भी इन बैंकों से जुड़े हैं यानी इन बैंकों के ग्राहक हैं तो चलिए बताते हैं आपको इनके बारे में…

अब घर बैठे-बैठे मिलेंगी फल और सब्जियां, बिग बाजार देगा डोरस्टेप डिलिवरी

इलाहाबाद बैंक- इलाहाबाद के सभी ब्रांच 1अप्रैल से इंडियन बैंक के माने जाएंगे। इस बैंक के ग्राहक या डिपॉजिटर्स भी अब इंडियन बैंक के कहे जाएंगे। सिंडिकेट बैंक, केनरा बैंक- सिंडिकेट बैंक का विलय केनरा बैंक में होने जा रहा है। 1अप्रैल को इस विलय के बाद ये दोनों बैंक मर्ज हो जाएंगे। यानी मर्ज होने के बाद सिंडिकेट बैंक के ग्राहकों को अब केनरा बैंक का ग्राहक माना जाएगा।  वहीं ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स और यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया के ब्रांच 1अप्रैल से पंजाब नेशनल बैंक के हो जाएंगे। इसके साथ ही इन दोनों बैंकों के सभी कस्टमर्स अब पीएनबी के माने जायंगे।

शेयर बाजार पर कोरोना का कहर, सेंसेक्स-निफ्टी में भारी गिरावट

यहां आपको बता दें कि  देश का तीसरा सबसे बड़ा बैंक पीएनबी को माना जाता रहा है। इस बैंक (पीएनबी) से पहले बैंक ऑफ बड़ौदा और एसबीआई बैंक आते हैं। यूनियन बैंक में आंध्रा बैंक और कॉरपोरेशन बैंक का विलय- आखिरी विलय है आंध्रा बैंक और कॉरपोरेशन बैंक का यूनियन बैंक में। 1 अप्रैल से आंध्रा और कॉरपोरेशन बैंक के ग्राहक के अलावा ब्रांच यूनियन बैंक के माने जाएंगे।

AB STAR NEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते हैं